19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
गुरुद्वारा गोलीकांड की घटना को लेकर मनाया गया शोक
09-08-2012

वाशिंगटन। अमेरिका के विस्कांसिन गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी की घटना को लेकर बुधवार को कई शहरों में शोक सभा का आयोजन किया गया। इसमें भारतीय मूल के लोगों समेतसमाज के हर तबके के लोग शामिल हुए। न्यूयॉर्क के मैनहटन, वाशिंगटन में ह्वाइट हाउस के सामने लैफयेटे स्क्वायरपार्क,बोस्टन,शिकागो और सैन फ्रांसिस्को में शोक सभाएं आयोजित की गई। इनमें शामिल लोगों ने गोलीबारी में मारे गए छह लोगों की तस्वीरें ले रखी थीं। शोक सभा में शामिललोगों ने आठ अगस्त को राष्ट्रीय स्मरण एवं एकजुटता दिवस के रूप में मनाया। सभी ने इस घटना को अमेरिका के इतिहास का बदसूरत और काला दिन करार दिया। लोगों ने हाथ में पुलिस अधिकारी ब्रायन मर्फी की तस्वीर भी ले रखी थी, जो हमलावर वेड माइकल पेज की गोलियों से घायल हो गए थे। कुछ लोगों ने \'वी आर ऑल सिख्स। ओक क्रीक विस्कांसिन\' स्लोगन लिखी हुई टीशर्ट पहन रखी थी। लोगों ने हाथों में बैनर पकड़े हुए थे, जिस पर \'वी आर ऑल वन\', \'वी आर अमेरिकन, वी आर सिख, वी आर वन\' और \'प्राउड टू बी सिख\' लिखा हुआ था।खुद की गोली से मरा था हमलावर वाशिंगटन। अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी [एफबीआइ] की रिपोर्ट के मुताबिक रविवार को विस्कांसिन राज्य के गुरुद्वारे में हमला कर छह लोगों को मौत के घाट उतारने वाले वेड माइकल पेज ने अपने सिर में खुद ही गोली मार ली थी। अभी तक कहा जा रहा था हमलावर पुलिस कार्रवाई में मारा गया था।रिपोर्ट के मुताबिक, 41 वर्षीय पेज की मौत पुलिस द्वारा पेट में गोली मारे जाने से नहीं हुई थी, बल्कि उसने खुद ही अपने सिर में गोली मार ली थी। एफबीआइ की स्पेशल एजेंट टेरेसा कार्लसन ने बुधवार को बताया कि पूर्व अमेरिकी सैनिक पेज के करीबियोंसे पूछताछ की जा रही है। हालांकि अधिकारी अभी यह तय नहीं कर पाए हैं कि गुरुद्वारेमें हुई गोलीबारी के पीछे पेज का क्या मकसद था।ओबामा ने मनमोहन को फोन करके शोक व्यक्त किया वाशिंगटन। अमेरिका में विस्कांसिन गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी के तीन दिन बादराष्ट्रपति बराक ओबामा ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को फोन करके शोक व्यक्त किया। ह्वाइट हाउस के मुताबिक ओबामा ने बुधवार को मनमोहन से कहा, \'मैं विस्कासिन गुरुद्वारे में हमले के शिकार लोगों के प्रति शोक प्रकट करता हूं। सिख समुदायअमेरिका का अहम हिस्सा है। गोलीबारी की घटना बहुत त्रासदीपूर्ण है। एक पूजास्थल पर यह घटना हुई इसलिए यह और भी त्रासदीपूर्ण है।\' वहीं भारतीय प्रधानमंत्री ने भी उनके पास आए विभिन्न संदेशों, अमेरिका से मिले सहयोग और स्थानीय पुलिस विभाग की त्वरित प्रतिक्रिया के प्रति आभार व्यक्त किया। ह्वाइट हाउस से जारी बयान में कहा गया है कि दोनों नेताओं ने अपने देशों की धार्मिक स्वतंत्रता, पूजा की स्वतंत्रता के साझा मूल्यों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।