18 February 2019



खेलकूद
तैराक रवींद्रनाथ पर आयी मुसीबत
09-08-2012

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में एथलीट पिंकी प्रमाणिक को पुरुष बताकर उसके खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कराने के बाद युवा तैराक को महिला बता उसके साथ ज्यादती का मामला प्रकाश में आया है। हुगली के वैद्याबाटी गांव के तैराक रवींद्रनाथ दास की कुछ लोगों ने बीते दिनों इस कदर पिटाई कर दी कि वह बेहरामपुर में होने वाली तैराकी प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सकता। हमलावरों ने उसके बाल तक काट दिए। अब उसे धमकियां मिल रही हैं। निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले रवींद्रनाथ दास ने वर्ष 2002 में इलाहाबाद से बैरकपुर, उत्तर 24 परगना, तक कुल 1400 किलोमीटर तैराकी की थी। गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से उसने यह तैराकी 22 दिनों में पूरी की थी। 2003 में नर्मदा बचाओ अभियान के तहत भी सैकड़ों किलोमीटर की तैराकी की। कई अंतर्राज्यीय प्रतियोगिताओं में विजेता रहा। उसे अगले माह पश्चिम बंगाल के बेहरामपुर में होने वाली 81 किलोमीटर तैराकी प्रतियोगिता में भाग लेना था। हुगली के रिसड़ा स्थित फैक्ट्री में काम करने वाले रवींद्र ने बताया कि लंबे बाल रखना उसका शौक है। मूंछ-दाढ़ी नहीं रखता व कानों में बाली पहनता है। यही उसकी पिटाई की वजह बनी। बीते नौ जुलाई को वह ट्रेन पकड़ने के लिए रिसड़ा रेलवे स्टेशन पर खड़ा था। तभी उसके साथ पहले काम कर चुके जोयदेव मोंडल व उसके साथी वहां पहुंच गए। उन लोगों ने तैराक की पिटाई की और बाल काट दिए। दूसरे यात्रियों ने रोका तो जोयदेव ने कहा, \'यह औरत है और मुझसे शादी का वादा किया था।\' इसके बाद अन्य यात्रियों ने भी तैराक के कपड़े खोलने की कोशिश की। रवींद्र ने शिवराफुली जीआरपी थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। मुख्य आरोपी जोयदेव गिरफ्तार हुआ। बाद में उसे जमानत मिल गई। रवींद्र का कहना है कि जेल से रिहा होने के बाद जोयदेव फिर उसे धमकी दे रहा है।