15 February 2019



राष्ट्रीय
एनडीए में प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी को लेकर मचा घमासान
10-08-2012

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन [एनडीए] में प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी को लेकर मचा घमासान कम होने का नाम नहीं ले रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद काउम्मीदवार बनाने के विरोध में हैं।भाजपा ने भी नीतीश को भरोसा दिया है किप्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का फैसला एनडीए में विचार-विमर्श के बाद ही लियाजाएगा। इस बीच, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने नीतीश कुमार की सरकार की तारीफ कर मोदीके लिए मुश्किलें खड़ी कर दी है। संघ प्रमुख मोहन भागवत का कहना है कि गुड गवर्नेसके मामले में बिहार गुजरात से कहीं आगे है।संघ प्रमुख ने कहा कि कभी गुजरात को लोग देश का मॉडल मानते थे, लेकिन नीतीश के शासन वाले बिहार ने उसे चुनौती दी है। जहा विकास की सारी संभावनाएं खत्म हो गई थी, वहा नीतीश ने बेहतरीन काम कर एक नया मॉडल पेश किया है। संघ प्रमुख ने यह बात दिल्ली में विदेशी पत्रकारों के साथ संवाद में की। हालाकि संघ प्रमुख ने यह भी स्पष्ट कियाकि यह उनकी नहीं बल्कि लोगों की राय है। सूत्रों के मुताबिक संघ प्रमुख ने यह भी कहा कि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की सरकारें अच्छा काम कर रही है।नीतीश के संबंध में संघ प्रमुख की टिप्पणी को एनडीए में प्रधानमंत्री पद को लेकर मचे घमासान को थामने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। संघ चाहता है कि जदयू काभाजपा से गठबंधन बना रहे। संघ को पता है कि नीतीश कुमार का समर्थन करने से भाजपा को अगले लोकसभा चुनाव में फायदा हो सकता है। संघ प्रमुख ने इस बात का जवाब देने सेइनकार कर दिया कि भाजपा से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन होना चाहिए। भागवत ने कहा कि इस संबंध में फैसला भाजपा और एनडीए को लेना है।