15 February 2019



राष्ट्रीय
115 सुंदरियों को चुनौती देंगी अपनी वान्या मिश्रा
18-08-2012

नई दिल्ली। चीन में भारतीय समयानुसार शनिवार शाम पांच बजे 65वीं मिस व‌र्ल्ड चुनी जाएगी। इस प्रतियोगिया में 116 देशों की सुंदरिया भाग ले रही हैं, लेकिन भारतीयों की नजर चंडीगढ़ की 21 साल की वान्या मिश्रा पर है। 30 मार्च 2012 को वान्या ने फेमिना मिस इंडिया का खिताब जीता था। वान्या का जन्म 27 फरवरी 1992 को जालंधर में हुआ था। वान्या पीईसी यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रही है। वह सामाजिक कार्यक्रमों से जुड़ी रही है। वान्या जब बच्ची थी, तब वह अपनी मा के साथ मूक बधिर छात्रों के स्कूलों में जाती थी। उसने अपनी आखें दान करने की इच्छा भी जताई है। मिस व‌र्ल्ड प्रतियोगिता में पहली बार 116 देशों की सुंदरिया हिस्सा ले रही हैं। मिस व‌र्ल्ड प्रतियोगिता चीन के ओरडोस सिटी में हो रही है, जिसे माइनिंग सिटी के नाम से भी जाना जाता है। 2001 में मिस व‌र्ल्ड का खिताब मिस वेनेजुएला इवियान लूनासोल सारकोस ने जीता था। इवियान इस बार की विजेता को मिस व‌र्ल्ड का ताज पहनाएगी।

प्रियंका चोपड़ा से मिली प्रेरणा वान्या के पिता मेजर थे, लेकिन जब वह सिर्फ दो साल की थीं, तभी पिता की मौत हो गई थी। इसके बाद वह मा के साथ चंडीगढ़ में नाना-नानी के यहा रहने लगीं। वान्या ने 30 मार्च 2012 को फेमिना मिस इंडिया व‌र्ल्ड का खिताब जीत कर मिस व‌र्ल्ड प्रतियोगिता में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की थी। उन्हें बेडमिंटन खेलना बेहद पसंद है। उनकी पसंदीदा कार ऑडी है। फिल्मी हीरोइनों में उन्हें प्रियंका चोपड़ा और हीरो में रॉबर्ट डाउनी पसंद हैं। उनकी मा के मुताबिक वान्या को ब्यूटी काटेस्ट में जाने की प्रेरणा भी प्रियंका चोपड़ा से ही मिली। उन्होंने बताया कि जब प्रियंका चोपड़ा मिस इंडिया मुकाबले में जीती थीं, तो वह अपनी बेटी के साथ टीवी पर मुकाबला देख रही थीं। तभी वान्या ने पूछा था कि मा, क्या मैं भी मिस इंडिया बन सकती हूं? इसके बाद से ही उन्होंने इस दिशा में तैयारी शुरू कर दी थी।

सबसे ज्यादा पसंद है अपनी स्माइल

वान्या को पढ़ना, गाना सुनना और फैशन शो में भाग लेना काफी अच्छा लगता है। उन्हें अपनी स्माइल ज्बसे ज्यादा पसंद है। वान्या फेमिना मिस इंडिया के अलावा मिस रोज ग्लो 2012, भारती विद्यापीठ, मिस इंडिया फोटोजेनिक 2012, फेमिना मिस क्लोसल आई 2012 और मिस इंडिया ब्यूटीफुल स्किन का खिताब भी जीत चुकी हैं। वान्या के दोस्तों के मुताबिक वह हमेशा क्लास में कॉन्फिडेंट होकर हर सवाल का जवाब देती रही हैं। उन्हें उम्मीद है कि आज भी वह वही कॉन्फिडेंस दिखाएंगी। वान्या की मा वेद मिश्रा ने बताया कि उनकी बेटी को प्रैक्टिस केज्लिए ज्यादा समय नहीं मिल पाया, लेकिन जितना भी मिला, उसने पूरी जान लड़ा दी। उनके मुताबिक वान्या इतनी बिजीं थी कि फाइनल मुकाबले में जाने से पहले उनसे मिलने चंडीगढ़ तक नहीं आ सकीं। इसलिए वेद खुद उनसे मिलने मुंबई गई थीं। वान्या ने शुक्रवार को हुए \'ब्यूटी विद परपज\' कंपीटिशन में टॉप 10 में जगह बना ली है।