22 February 2019



राष्ट्रीय
आक्रामक रवैया अपनाएं कांग्रेसी
24-08-2012
कोयला घोटाले पर विपक्ष की जिद के सामने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के भी आक्रामक रूप से खुलकर सामने आने के बाद राजनीतिक संकट और गहरा गया है। प्रधानमंत्री के इस्तीफे की मांग पर अड़े विपक्ष के सामने बिल्कुल न झुकने की सोनिया की नसीहत के बाद कांग्रेसियों के और ज्यादा लड़ाकू तेवर अपनाने के बाद सोमवार से पहले यह गतिरोध निपटने के आसार बिल्कुल खत्म हो गए हैं। हालांकि, संसद चलाने के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के खुद बयान देने और सर्वदलीय बैठक का प्रस्ताव भाजपा के पास भेजा गया है, लेकिन मुख्य विपक्षी दल ने सोमवार को ही अपने पत्ते खोलने को कहा है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे से कम पर किसी भी तरह राजी नहीं हो रही भाजपा के तेवरों से भड़की सोनिया ने अपने सांसदों को भी दबाव में न आने की ताकीद कर दी। संप्रग अध्यक्ष ने कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में दो टूक कहा कि \'विपक्ष का तरीका सरासर गलत है और सरकार को बचाव की कोई जरूरत नहीं है, इसलिए हमें भी आक्रामक रुख ही अपनाना चाहिए।\' सोनिया के इन तेवरों के बाद कांग्रेस के मंत्री और सांसदों ने भाजपा के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल दिया है। इससे गतिरोध समाप्त होने के बजाय और बढ़ता जा रहा है। कांग्रेस ने इसके संकेत जेपीसी के प्रमुख पीसी चाको को प्रवक्ता बनाकर दे दिए हैं।