18 February 2019



प्रमुख समाचार
खराब सड़को के लिए अफसरो को ठांसा सीएम ने
30-08-2012

राजधानी सहित प्रदेश की प्रमुख सड़कों के उखड़ने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी पीडब्ल्यूडी के अफसरों पर उखड़ गए। उन्होंने सड़कों के घटिया निर्माण पर आपत्ति जताते हुए दोषियों के खिलाफ पूरी सख्ती से कार्ऱवाई करने के लिए कहा है। जाहिर है विधानसभा चुनावों में अब सिर्फ एक साल शेष बचा है औऱ सड़कों की घटिया स्थिति बीजेपी के लिए मुसीबत खड़ी कर सकती है। कांग्रेस इस मामले में अपने पुराने आरोप दोहरा रही है। मध्यप्रदेश में सड़कों के घटिया निर्माण को लेकर कांग्रेस तथा अन्य विपक्षी दल तो गाहे-बगाहे बीजेपी सरकार पर आऱोप लगाते रहे हैं लेकिन बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अचानक ही पीडब्ल्यूडी के अफसरो को बुलाकर जमकर फटकार लगाई औऱ कहा कि घटिया निर्माण के लिए दोषी ठेकेदारों तथा अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि बारिश खत्म होते ही सड़को की दुरुस्ती का काम शुरू हो जाना चाहिए। अधिकारियों ने इस बैठक में बताया कि खाली गड्डे भरने में ही पांच सौ करोड़ रुपए का खर्च हो जाएगा। सड़कों के घटिया निर्माण की वजह से बीजेपी नेता भी बगलें झांक रहे हैं कांग्रेस को तो जैसे मौका मिल ही गया है अपने आरोपों को साबित करने का। कांग्रेसी नेताओं का कहना है कि वे तो पहले से ही आरोप लगाते आ रहे हैं कि दिलीप सूर्य़वंशी जैसे ठेकेदार घटिया निर्माण कर रहे हैं लेकिन तब उनकी बात पर ध्यान ही नहीं दिया जा रहा है। अब मुख्यमंत्री को भी शायद समझ आने लगा है कि सड़कें खराब हैं।

दिग्विजय सिंह के सत्ता से हाथ धोने का प्रमुख कारण भी घटिया सड़कें ही थीं। अफसरों की जमात उनकों सड़क औऱ बिजली के मुद्दे पर अंधेरे में रखे रही औऱ जनता ने अपना फैसला सुना दिया। यदि शिवराज सरकार समय रहते सड़क , औऱ बिजली की समस्या से उबर जाए तो स्थिति सुधर सकती है वरना आने वाले चुनावों में जनता की नाराजी भी बीजेपी के खाते में जाएगी।