19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अमेरिका ने बंद किया अफगान जवानों का प्रशिक्षण कार्यक्रम
03-09-2012
अमेरिका ने अफगान पुलिस के जवानों का प्रशिक्षण कार्यक्रम बंद करने का फैसला किया है। यह घोषणा अफगानिस्तान में तैनात उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के सैनिकों पर लगातार हो रहे हमलों को ध्यान रखते हुए की गई है। अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल के प्रवक्ता कर्नल थॉमस कोलिंस ने कहा कि इस फैसले से अफगानिस्तान और अमेरिका के संबंधों पर असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने बताया कि लगभग 1000 जवानों का प्रशिक्षण कार्य रोकने का निर्णय नाटो सैनिकों की सुरक्षा को देखते हुए लिया गया है। अफगान सुरक्षा बलों के जवानों के हमलों में इस साल 45 नाटो सैनिकों की मौत हो चुकी है। हाल ही में तालिबान के सरगना मुल्ला उमर ने दावा किया था कि उनके लोग अफगान सुरक्षा बलों में घुसपैठ कर चुके हैं। इसके बाद राष्ट्रपति हामिद करजई ने अफगानिस्तान में तैनात शीर्ष अमेरिकी जनरल जॉन एलन को एक खुफिया रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें नाटो सैनिकों पर हमले के पीछे आइएसआइ और ईरान की खुफिया एजेंसी का हाथ बताया गया था। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और सेना प्रमुख मार्टिन डिंपसे ने सैनिकों पर हमले को गंभीर मुद्दा बताते हुए हामिद करजई से तत्काल कदम उठाने की बात कही थी। नाटो कमांडरों ने अपने सैनिकों को अफगान सुरक्षा बलों से दूर रहने की भी सलाह दी है। दूसरी ओर अफगान सेना ने अपने बलों में घुसपैठ के खिलाफ खुफिया अभियान चलाने की भी बात कही है।