18 February 2019



खेलकूद
मेहमान ढेर, भारत ने किया क्लीन स्वीप
04-09-2012
न्यूजीलैंड की टीम राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गज खिलाडि़यों की गैरमौजूदगी में टीम इंडिया पर दबाव बनाने के इरादे से टेस्ट सीरीज खेलने उतरी थी लेकिन उनके ख्वाबों को युवा टीम इंडिया ने उड़ान लेने का मौका नहीं दिया। पहले हैदराबाद में पारी और 115 रनों से करारी शिकस्त दी और अब बेंगलूर में भी 5 विकेट से जीत हासिल करके दो टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-0 से क्लीन स्वीप करके दम लिया। इसी के साथ टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने घरेलू पिचों पर टेस्ट क्रिकेट में सबसे सफल कप्तान बनने का भी गौरव हासिल कर लिया। माही ने इस मामले में पूर्व कप्तान मोहम्माद अजहरूद्दीन को पीछे छोड़ा। पहली पारी में शतक और दूसरी पारी में अर्धशतक जड़ने वाले विराट कोहली बेंगलूर टेस्ट के मैन आफ द मैच रहे जबकि रविचंद्रन अश्विन को सीरीज में 18 विकेट लेने के लिए मैन आफ द सीरीज के खिताब से नवाजा गया। न्यूजीलैंड की दूसरी पारी चौथे दिन के शुरुआती आधे घंटे के खेल में 248 रन बनाकर आउट हो गई। पहली पारी में मिली 12 रनों की बढ़त के आधार पर किवी टीम ने भारत के सामने जीत के लिए 261 रनों का लक्ष्य रखा। बारिश और चायकाल के बाद खेल शुरू होने पर सचिन तेंदुलकर [27] और चेतेश्वर पुजारा [48] भी आउट हो गए। भारत के पांच विकेट गिर चुके थे लेकिन एक बार फिर इन फार्म बल्लेबाज विराट कोहली [नाबाद 51] ने अपना अर्धशतक बनाया और कप्तान धौनी [नाबाद 48] ने खूंटा गाड़ा और टीम को चौथे दिन ही जीत से रूबरू करा दिया। इससे पहले सचिन और पुजारा के बाद सुरेश रैना [0] आउट हो गए। किवी टीम की तरफ से दूसरी पारी में जीतन पटेल ने तीन विकेट झटके। लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने तेज शुरुआत करने के बाद दोनों सलामी बल्लेबाजों के विकेट खो दिए। ओपनरों गौतम गंभीर [34] व वीरेंद्र सहवाग [38] ने आतिशी बल्लेबाजी करते हुए तेजी से रन बनाना शुरू किया और पहले विकेट के लिए 77 रनों की साझेदारी की। पिछली 12 पारियों में इस जोड़ी ने पहली बार अर्धशतकीय साझेदारी की। जीतन पटेल के पहले ओवर में छक्का व चौका लगाने के बाद आगे बढ़कर एक और शाट मारने के प्रयास में बोल्ड हो गए। शुरुआती झटके के बाद संयम से खेलने वाले गंभीर भी थोड़ी देर बाद ट्रेंट बाल्ट की गेंद पर कैच थमा बैठे। गंभीर ने बाहर जाती गेंद पर बल्ला अड़ा दिया और स्लिप में खड़े रास टेलर ने आसान कैच लपक लिया। लंच के बाद आई बारिश के कारण खेल काफी देर तक रुका रहा। मैच जब दुबारा शुरू हुआ तो सचिन तेंदुलकर [27] टिम साउथी की गेंद पर बोल्ड हो गए । दूसरी पारी में भी सचिन टिम साउथी की गेंद पर बोल्ड हो गए। सचिन टेस्ट सीरीज में लगातार तीसरी बार बोल्ड हुए हैं। 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ ऐसा दूसरी बार हुआ है जब वह लगातार तीन बार बोल्ड हुए हैं। थोड़ी देर बार चेतेश्वर पुजारा भी पटेल की गेंद पर स्विप लगाने के प्रयास में डेनियल फ्लिन को कैच थमा बैठे। पुजारा ने 48 रन बनाए। पुजारा और तेंदुलकर ने तीसरे विकेट के लिए 69 रनों की उपयोगी साझेदारी की। जल्दी-जल्दी दो विकेट गंवाने से संकट में दिख रही भारत को एक और झटका जल्द लगा जब सुरेश रैना भी शॉट खेलने के प्रयास में पटेल की गेंद पर बोल्ड हो गए। पहली पारी में पचासा लगाने वाले रैना इस बार खाता भी नहीं खोल सके। न्यूजीलैंड ने पहली पारी में 365 रन बनाए जिसके जवाब में भारतीय टीम 353 रन बनाकर आउट हो गई थी। न्यूजीलैंड की दूसरी पारी का अंतिम विकेट जहीर खान ने लिया। जहीर ने जीतन पटेल [22] को धौनी के हाथों कैच आउट कराया। पटेल और ट्रेंट बाल्ट [नाबाद 4] के बीच 26 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी हुई थी। हालांकि अंपायर ने जीतन को आउट का फैसला गलत साबित हुआ क्योंकि टीवी रिप्ले में गेंद बल्ले को छूकर नहीं गई थी। न्यूजीलैंड की ओर से दूसरी पारी में जेम्स फ्रैंकलिन ने सर्वाधिक 41 रनों का योगदान दिया। फ्रैंकलिन के अलावा कप्तान रॉस टेलर ने 35, डेनियल फ्लिन व क्रूगर वान विक ने 31-31 रन बनाए। भारत की ओर से आर अश्विन [5] के अलावा प्रज्ञान ओझा और उमेश यादव ने दो-दो विकेट निकाले।