19 February 2019



राष्ट्रीय
बलिहारी गुरु आपने गोविंद दियो बताय.
05-09-2012
 गुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागूं पाय, बलिहारी गुरु आपने गोविंद दियो बताय। यानी कि गुरु ही जीवन में सच्चा मार्गदर्शक होता है। व्यक्ति के सर्वागीण विकास में गुरु की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण होती है। ज्ञान हमें शक्ति देता है और प्रेम हमें परिपूर्णता देता है। ऐसी सोच रखने वाले शिक्षक को प्रणाम। हमारे देश में डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी तरह दुनिया के अन्य देशों में भी शिक्षक दिवस मनाने की परंपरा है। प्रत्येक देश में अलग-अलग तारीख को यह दिवस मनाया जाता है। इसके महत्व को देखते हुए यूनेस्को ने पांच अक्टूबर को विश्व शिक्षक दिवस घोषित कर रखा है। आधुनिक भारत के निर्माण में यदि कहा जाए कि शिक्षकों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है तो यह कहना गलत नहीं होगा। शिक्षाविदों ने छात्रों को शिक्षा देकर देश का भविष्य तो तैयार किया साथ ही अपना योगदान विज्ञान, साहित्य, योग, राजनीति में भी दिया। इस वजह से आज भारत की पहचान एक सशक्त राष्ट्र के रूप होती है।ऐसे शिक्षकों में भारत के पहले उप राष्ट्रपति डॉ.सर्वपल्ली राघाकृष्णन, जिनके जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाया जाता है के अलावा डॉ. शंकर दयाल शर्मा, मदन मोहन मालवीय, सीवी रमण व शांति स्वरूप भटनागर जैसे कई नाम शमिल हैं।