21 February 2019



प्रादेशिक
बीजेपी नेता पहले शिवराज से इस्तीफा लें- जोशी
11-09-2012

केंद्रीय मंत्री डा. सीपी जोशी ने कहा है कि कोल ब्लाक आबंटन में पीएम से इस्तीफा मांगने की जिद कर रही बीजेपी को सबसे पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से इस्तीफा मांगना चाहिए जिन्होंने एक प्राइवेट कंपनी को ब्लाक आबंटन करने के लिए सिफारिशी पत्र लिखा। उन्होंने कहा कि बीजेपी नैतिकता की बात करती है तो उसे अपना उदाहरण भी पेश करना चाहिए। कोल ब्लाक आबंटन पर बीजेपी के तेवरों का जवाब देने के लिए कांग्रेस ने कमर कस ली है। वह बीजेपी के उन भ्रष्टाचारियों को निशाना बना रही है जिन्हें बीजेपी बचाने की कोशिश कर रही है। राजधानी भोपाल आए केंद्रीय मंत्री डा. सीपी जोशी ने कहा कि बीजेपी के नेताओं में यदि जरा सी भी नैतिकता है तो उन्हें सबसे पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से इस्तीफा मांगना चाहिए जिनके बारे में सीएजी रिपोर्ट मे भी जिक्र है कि एक प्राइवेट कंपनी रिलायंस को कोल ब्लाक आबंटन के लिए उन्होंने पत्र लिखकर सिफारिश की । पिछले एक महीने से निरंतर बीजेपी के लिए दिक्कतें खड़ी कर रही कांग्रेस ने पहले युवा कांग्रेस के जरिए प्रदेश सरकार के कुशासन पर निशाना साधा और अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर वह बीजेपी के लिए नई चुनौती पेश कर रही है। डा. सीपी जोशी ने कहा कि कांग्रेस कानून सम्मत काम करेगी औऱ यदि दोषी होंगे तो मध्यप्रदेश या किसी भी प्रदेश के मुख्यमंत्री को बख्शा नहीं जाएगा। कांग्रेस पिछले कुछ समय से जिस तरह से एकजुट हो रही है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह समेत अन्य नेताओं को जिस तरह से घेर रही है उससे बीजेपी के नेता भी सकते में है। कांग्रेस में फूट की बात करने वाले नेता बीजेपी में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बंटे हुए हैं। इसका नतीजा है कि हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर जितने भी आरोप लगे उनका खंडन करने बीजेपी का कोई बड़ा नेता सामने नहीं आया चाहे वह कोल ब्लाक आबंटन को लेकर लिखा गया पत्र हो या साले संबंधियों के भ्रष्टाचार के मामले। जाहिर है बीजेपी की यह फूट सरकार के लिए ठीक नहीं है।