15 February 2019



राष्ट्रीय
इन 5 कारणों से मोदी पर सबसे भारी पड़ सकता है यह चुनाव
12-09-2012
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल के आखिरी महीनों में गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बिगुल फूंक दिया है। इस बीच, कांग्रेस ने राहुल गांधी (इकॉनमिस्ट की राय में नेता बनने लायक नहीं हैं राहुल) को गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी के खिलाफ प्रचार के मैदान में न उतारने का साफ संकेत दे दिया है। पार्टी का कहना है कि प्रदेश में चुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं और गुजरात में पार्टी के नेता चुनाव अभियान चलाने में सक्षम है। गुजरात में एक बार फिर सत्ता पाने के लिए मंगलवार को मोदी ने एक महीने तक चलने वाली रथ यात्रा मेहसाणा जिले के बहुचराजी से शुरू कर दी। रथयात्रा के दौरान गुजरात के सभी इलाकों की यात्रा करेंगे और अपनी \'उपलब्धियों\' और केंद्र सरकार की ओर से गुजरात के साथ की जा रही कथित \'ज्यादतियों\' के बारे में जनता को बताएंगे। 7 अक्टूबर, 2001 से गुजरात की सत्ता पर काबिज मोदी के लिए अगला विधानसभा चुनाव जीतना औऱ चौथी बार गुजरात का मुख्यमंत्री बनना आसान नहीं होगा। इस बार के चुनाव उनके लिए सबसे बड़े इम्तिहान साबित हो सकते हैं। गुजरात का अगला चुनाव इस बात को भी काफी हद तक कर देगा कि नरेंद्र मोदी देश की राजनीति में कितनी दखल देंगे।लेकिन कई जानकार मानते हैं कि गुजरात चुनाव मोदी के लिए सबसे बड़ी चुनौती साबित हो सकते हैं। इसकी कई वजहें हैं। आगे की स्लाइड में उन कारणों पर नज़र डालें, जो मोदी की राह में रोड़ा बन सकती हैं: