15 February 2019



राष्ट्रीय
देश भर में भड़की डीजल की आग दाम बढ़ने से आक्रोश
14-09-2012
घोटालों को लेकर पहले से ही चारों ओर से घिरी सरकार अब डीजल के दाम बढ़ाने के बाद आम जनता के गुस्से का भी शिकार हो गई है। डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी से आम जनता में आक्रोश है। देश भर में डीजल के दामों में बढ़ोतरी का विरोध हो रहा है। उत्तर बंगाल में पेट्रोलियम पदार्थ में मूल्यवृद्धि व रसोई गैस देने में मनमानी के खिलाफ वामपंथी व दक्षिणपंथी संगठनों द्वारा विरोध प्रदर्शन प्रारंभ हो गया है। यहा तक की यूपीए के सहयोगी तृणमूल काग्रेस ने भी इसका विरोध करने का निर्णय लिया है। सितंबर में महंगाई दर और बढ़ने का अंदेशा व्यक्त किया गया है। डीजल के दाम बढ़ने का सीधा असर आम आदमी की जेब पर पड़ने लगा है। सब्जियों के दाम बढ़ गए हैं। रोडवेज बसों के किराए में भी वृद्धि शुरू हो ई है।
महाराष्ट्र में बढ़ा बस किराया मुंबई में स्कूल बसों का किराया बढ़ा दिया गया है। स्कूल बसों के किराए में 30 से 50 रुपये तक की बढ़ोतरी की गई है। छोटी स्कूल बसों का किराया 600 रुपये था। इसे बढ़ाकर 650 रुपये कर दिया गया है। वहीं, बड़ी स्कूल बसों का किराया 650 से बढ़ाकर 680 रुपये महीना किया गया है। बढ़ा हुआ किराया एक अक्टूबर से लागू होगा।टैक्सी वालों ने बढ़ाया किराया मुंबई व दिल्ली में ऑटो वालों ने किराया बढ़ा दिया है। ऑटो वाले 25 फीसदी ज्यादा किराया वसूल रहे हैं।
उत्तर प्रदेश में बस किराए में बढ़ोतरी उत्तर प्रदेश में सरकारी बसों का किराया 10 फीसदी बढ़ाने की घोषणा की गई है। कीमत बढ़ाने के प्रस्ताव का रिमाइंडर सरकार के पास भेजा गया है, जिसे दो से तीन दिन में अमलीजामा पहना दिया जाएगा।उत्तर प्रदेश में शुक्रवार से बिजली भी महंगी हो गई है। राजस्थान में भी रोडवेज बसों के किराए में बढ़ोतरी हो सकती है। महाराष्ट्र स्टेट ट्रासपोर्ट ने सरकार के पास किराया बढ़ाने की सिफारिश भेजी है।