16 February 2019



राष्ट्रीय
ममता की चुनौती, हिम्‍मत है तो जेल में डाल दे सरकार
02-10-2012
 डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी, रसोई गैस सिलेंडर की राशनिंग और रिटेल में एफडीआई की मंजूरी जैसे केंद्र सरकार के फैसलों (पढ़ें: पांच मुसीबत: आज से जीना हुआ और मुहाल) के खिलाफ तृणमूल कांग्रेस दिल्‍ली में अपनी ताकत दिखाई है। पार्टी ने सोमवार को जंतर मंतर पर रैली और विरोध प्रदर्शन किया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल की मुखिया ममता बनर्जी ने रैली को संबोधित करते हुए हिंदी में अपना भाषण दिया ममता ने केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि यदि सरकार में हिम्‍मत है तो उन्‍हें जेल में डालकर दिखाए। उन्‍होंने कहा, \'महंगाई से देश का आम आदमी दुखी है। जब कोई सरकार के फैसलों के खिलाफ आवाज उठाता है तो सरकार उसे सीबीआई की धौंस दिखाती है। मुझे किसी का डर नहीं है। एफडीआई से छोटे दुकानदार भूखे मर जाएंगे। सरकार ने देश को बेच दिया है। यह देश की इज्‍जत लूटने वाली सरकार है। अब यह सरकार नहीं चलेगी। देश को बेचना आर्थिक सुधार नहीं है। सबको साथ लेकर चलना कामयाबी है।\'ममता आज बेहद शायराना अंदाज में दिखीं। उन्‍होंने कहा, \'आम आदमी के सवाल पर कांग्रेस को इतना गुस्‍सा क्‍यों आता है। केंद्र सरकार को इतना गुस्‍सा क्‍यों आता है। मिल-बैठकर बात करने से मसले हल हो सकते हैं।\' उन्‍होंने कहा, \'मैं देश की सेवा के लिए राजनीति में आईं। हमें मंत्रालय नहीं, देश की जरूरत है। मुहब्‍बत आम आदमी से है, भ्रष्‍टाचारी सरकार से नहीं\'। ममता ने कहा कि वह रिटेल में एफडीआई के फैसले के खिलाफ 2 नवंबर को हरियाणा और 17 नवंबर को लखनऊ में रैली करेंगी। पटना में भी रैली की जाएगी। तृणमूल कांग्रेस दक्षिण भारत में भी विरोध-प्रदर्शन करेगी। ममता ने कहा कि वह हर 15 दिन पर दिल्‍ली आती रहेंगी, चाहे उनसे इसके लिए कोई नाराज क्‍यों न हो।एनडीए के संयोजक और जेडी(यू) अध्‍यक्ष शरद यादव भी ममता बनर्जी के मंच पर पहुंचे। शरद ने ममता की तारीफ करते हुए उन्‍हें \'बंगाल की शेरनी\' करार दिया। उन्‍होंने कहा, ममता में जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया जैसी हिम्‍मत है। वह ईमानदार नेता हैं। ममता की बगावत इतिहास में दर्ज होगी।\' शरद ने कहा कि वह संसद में एफडीआई के खिलाफ प्रस्‍ताव का समर्थन करेंगे। इस बीच, केंद्र सरकार की प्रमुख सहयोगी दल डीएमके ने भी मांग की है कि रिटेल में एफडीआई की मंजूरी का फैसला वापस लिया जाए।