16 February 2019



राष्ट्रीय
मोदी इन पांच कारणों से कभी भी पीएम नहीं बन सकते हैं
23-10-2012
  एनडीए की ओर से प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी की दावेदारी फिलहाल खारिज हो गई है। भाजपा नेताओं से रायशुमारी के बाद संघ ने यह तय किया है। भाजपा नेताओं की दलील है कि मोदी को प्रोजेक्ट करते ही भ्रष्टाचार और महंगाई का मुद्दा गौण हो जाएगा। सांप्रदायिकता बनाम धर्मनिरपेक्षता पर राजनीति शुरू हो जाएगी। ऐेसे में एनडीए कुनबा बढऩा तो दूर जदयू जैसे मौजूदा घटक दल उससे अलग हो जाएंगे। देश के तमाम सर्वे और ओपिनियन पोल में नरेंद्र मोदी अगले लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री पद के सबसे मजबूत दावेदार के तौर पर उभरे हैं। वे कांग्रेस के राहुल गांधी, सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह जैसे नेताओं से कहीं आगे हैं। यही नहीं, वे बीजेपी के भी लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली या राजनाथ सिंह जैसे नेताओं से भी इस मामले में आगे बताए जा रहे हैं। लेकिन जहां एक तरफ वे बीजेपी के लिए सबसे मजबूत पहलू साबित हो सकते हैं, वहीं उनकी शख्सियत इतनी विवादास्पद है कि उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ना जोखिम भरा दांव भी साबित हो सकता है।