22 February 2019



राष्ट्रीय
मोदी के खिलाफ संजीव भट्ट की पत्नी ने खोला मोर्चा
15-11-2012
मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बगावती तेवर अपनाने वाले निलंबित आईपीएस संजीव भट्ट की पत्‍‌नी श्वेता भट्ट ने भी मोदी के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कहा है की गुजरात किसी एक व्यक्ति की जागीर नहीं है, प्रदेश को भयमुक्त बनाना सबका फर्ज ही नहीं बल्कि अधिकार भी है। श्वेता के आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने की अटकलें हैं तथा माना जा रहा है की वह मोदी के खिलाफ मैदान में उतर सकती हैं। निलंबित आईपीएस संजीव भट्ट आगामी दिनों में करीब बीस साल पुराने हिरासत में मौत के एक मामले में पुलिस कार्यवाही का सामना कर रहे हैं। माना जा रहा है की उनकी किसी भी समय गिरफ्तारी भी हो सकती है ऐसे में उनकी पत्‍‌नी श्वेता भट्ट ने पहले ही मोदी के खिलाफ मोर्च संभाल लिया है। गत वर्ष फर्जी शपथ पत्र मामले में भट्ट की गिरफ्तारी के बाद श्वेता पहली बार मोदी के खिलाफ खुलकर सामने आ गई थी उन्होंने पति की न्यायिक हिरासत में हत्या की आशका जताते हुए केंद्रीय गृहमंत्री तक को पत्र लिख डाला था। एक गैर सरकारी संघठन के कार्यक्रम में हाजिरी देते हुए श्वेता ने एक साल बाद फिर मोदी के खिलाफ बगावती तेवर दिखाते हुए कहा है की गुजरात किसी एक व्यक्ति की जागीर नहीं है, प्रदेश को भयमुक्त बनाना सबका फर्ज ही नहीं बल्कि अधिकार भी है। उन्होंने कहा पिछले दस साल से गुजरात में लोकतंत्र नहीं बल्कि नफरत की राजनीती चल रही है। सभी गुजरातियों को मिलकर प्रदेश को असत्य से सत्य तथा अन्याय से न्याय की और ले जाना है। श्वेता ने कहा राज्य में एक अधिकारी किसी दूसरे अधिकारी से मिल नहीं सकता, उनके फोन टेप किए जा रहे हैं इसके अलावा उन्होंने अपने घर की जासूसी का भी आरोप लगते हुए कहा की उनके यहां कौन कौन आता है उनकी भी निगरानी राखी जाती है। श्वेता के आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने की अटकलें हैं। उन्होंने फिलहाल किसी पार्टी में शामिल होने की बात नहीं कही है लेकिन उनके कांग्रेस में शामिल होने की चर्चा है। भट्ट के करीबी यह भी बताते हैं की श्वेता का किसी पार्टी में जाना तय नहीं है लेकिन मुख्यमंत्री मोदी के खिलाफ वे चुनाव मैदान में उतर सकती हैं। हालांकि मोदी के खिलाफ उनका चुनाव जितना कतई मुमकिन नहीं होगा लेकिन मोदी के खिलाफ खुलकर बगावत का संदेश देने में वो जरूर कामयाब होंगी।