19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
फलस्तीन को मिला गैर सदस्यीय पर्यवेक्षक राष्ट्र का दर्जा
01-12-2012
फलस्तीन को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने गैर सदस्यीय पर्यवेक्षक राष्ट्र का दर्जा दे दिया है। गुरुवार को फलस्तीन का दर्जा बढ़ाए जाने को लेकर हुए मतदान में उसने ऐतिहासिक जीत दर्ज की। यह अमेरिका और इजरायल के लिए बड़ा झटका है। दोनों ने इस प्रस्ताव का कड़ा विरोध किया था। 193 सदस्यीय महासभा में भारत सहित 138 देशों ने प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया। इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय पटल पर मुल्क के तौर पर मान्यता हासिल करने का फलस्तीन ने एक और पड़ाव पास कर लिया। अभी तक उसे संयुक्त राष्ट्र में स्थायी पर्यवेक्षक का दर्जा प्राप्त था। इससे पहले गैर सदस्यीय पर्यवेक्षक राष्ट्र का दर्जा सिर्फ वेटिकन को ही प्राप्त था। अमेरिका और इजरायल समेत नौ देशों ने इस प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया था, जबकि 41 देश अनुपस्थित रहे। गैर सदस्य का दर्जा मिलने से संयुक्त राष्ट्र की अन्य संस्थाओं से जुड़ने की उसकी संभावना बढ़ जाएगी। मतदान के परिणाम की घोषणा होने पर फलस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास और उनका प्रतिनिधिमंडल खुशी से झूम उठा। प्रतिनिधिमंडल ने महासभा के हॉल के भीतर फलस्तीनी झंडा उठा रखा था। उन्होंने एकदूसरे को बधाई दी। मतदान से पहले महासभा को संबोधित करते हुए अब्बास ने कहा कि अब संयुक्त राष्ट्र का नैतिक दायित्व बनता है कि वह तत्कालिक आधार पर फलस्तीन के जन्म का प्रमाण पत्र जारी करे। पिछले साल सितंबर में फलस्तीन ने पूर्ण राष्ट्र का दर्जा हासिल करने के लिए संयुक्त राष्ट्र में आवेदन किया था, लेकिन सुरक्षा परिषद में अमेरिका ने इस पर वीटो कर दिया था।