19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
मंगल पर भी था कभी जीवन
05-12-2012
अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के यान मार्स रोवर क्यूरियोसिटी ने मंगल ग्रह पर ऐसे कई तत्वों की खोज की है जो जीवन के लिए आवश्यक हैं। लाल ग्रह पर इन तत्वों की मौजूदगी से उत्साहित वैज्ञानिकों का मानना है कि हो न हो मंगल पर कभी जीवन जरूर रहा होगा। हालांकि इस बारे में वे अभी कोई पुख्ता दावा करने से बच रहे हैं। उनका कहना है कि अभी हम नमूनों का अध्ययन कर रहे हैं। उसके बाद ही कुछ कह सकते हैं वैज्ञानिकों ने रोवर द्वारा मंगल ग्रह से एकत्रित मिट्टी के नमूने में कार्बन, पानी, सल्फर और क्लोरीन जैसे तत्वों की मात्रा पाई है। डिस्कवरी न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार, इनमें से एक कार्बन तत्व उपलब्ध होने से भूगर्भीय और जैविक क्रिया के प्रमाण मिलते हैं। सैन फ्रांसिस्को में आयोजित अमेरिकन भूगर्भ विज्ञानियों की एक कांफ्रेंस में अभियान के प्रमुख वैज्ञानिक जोन्ह ग्रोटजिंगर ने कहा कि वास्तव में हम इस खोज को लेकर अभी पूर्ण रूप से आश्वस्त नहीं हैं। उन्होंने कहा कि कार्बन की उपलब्धता से यह कतई तय नहीं होता कि मंगल पर जीवन संभव है या यह ग्रह निवास करने योग्य है। जैसा कि हम जानते है कि जीवित रहने के लिए तीन प्रमुख तत्व हैं, पानी, ऊर्जा स्रोत और कार्बन जरूरी। इसके अलावा सल्फर, ऑक्सीजन, फास्फोरस और नाइट्रोजन की भी आवश्यकता रहती है। हम नमूनों का बारीकी से अध्ययन कर रहे हैं और काफी परीक्षण के बाद ही मंगल पर जीवन की मौजूदगी के बारे में आधिकारिक रूप से कुछ कह सकते हैं। नासा के दो वर्षीय मंगल ग्रह अभियान के दौरान पिछले चार माह में क्यूरियोसिटी रोवर पानी समेत कई तत्वों की खोज कर चुका है।