19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
काबुल को भारत से सीधे सैन्य मदद पर आपत्ति नहीं
11-12-2012
अमेरिका ने कहा है कि अफगानिस्तान यदि अपने यहां आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए भारत से सीधे सैन्य मदद लेता है, तो उसे कोई आपत्ति नहीं है। अमेरिकी रक्षा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वह इस मुद्दे पर भारत और अफगानिस्तान से बात कर चुके हैं और उन्हें इसमें कोई समस्या नहीं दिखाई देती। अपना नाम गोपनीय रखने वाले उक्त अधिकारी से एक भारतीय अखबार में छपी एक खबर पर प्रतिक्रिया मांगी गई थी, जिसमें कहा गया है कि अफगानिस्तान के सैन्य और खुफिया अधिकारियों ने देश के अनुभवहीन सैन्य बलों को सीधे सैन्य सहायता देने के लिए भारत से आग्रह किया था। इस अखबार ने दावा किया गया है कि अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा बलों को मुख्य सैन्य उपकरण दिए जाएंगे। इसमें ढाई से सात टन वाले मध्यम दर्जे के ट्रक, पुल निर्माण सामग्री और तकनीकी सुविधाएं और पर्वतारोहण सामग्री शामिल हैं। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत ने वर्ष 2014 में पश्चिमी सेना के हटने से पहले अफगानिस्तान के सैनिकों को हवाई गतिविधियों में सक्षम बनाने की बात भी कही है। इस अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि अमेरिका और अफगानिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय की सहायता से अफगान सीमा पर आतंकी गतिविधियों से निपटने के लिए एक संयुक्त कार्ययोजना बनाई है। यह जरूरी है कि इस पर निरंतर काम किया जाए और इसमें भारत की भूमिका भी महत्वपूर्ण है। अफगानिस्तान में महत्वपूर्ण आधारभूत परियोजनाओं में भी भारत सहयोग कर रहा है।