22 February 2019



राष्ट्रीय
हैवानियत के नंगे नाच पर सेलेब्स के बोल
24-12-2012

नई दिल्ली। दिल्ली में हुई हैवानियत पर पूरा देश तो उबल ही रहा है। सेलेब्रिटीज भी बार-बार अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। अमिताभ ने ट्वीट किया है कि आंसु गैस के गोलों से पैदा हुए आंसुओं से पीड़ित के आंसूओं को नहीं धोया जा सकता। फरहान अख्तर ने बाबा रामदेव के वहां जाने पर सवाल उठाया है। फरहान लिखते हैं कि बाबा रामदेव की कोई जरूरत नहीं है। -वीर दास ने भी फरहान अख्तर की भाषा में ही बाबा रामदेव पर सवाल उठाते हुए कहते हैं कि उन जैसे लोग पब्लिसिटी के भूखे हैं। यह युवाओं का आंदोलन हैं। बाबा जैसे लोगों को यहां से दूर रहना चाहिए। फिल्मकार प्रीतीश नंदी लिखते हैं कि यह वास्तविक स्टूडेंट ऑफ द ईयर है। पुलिस और राजनेताओं को उनकी बातें सुननी चाहिए और उनका साथ देना चाहिए। शेखर कपूर लिखते हैं कि इस आंदोलन के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि इससे अपने एजेंडे को साधने वाले लोगों से दूर रखा जाए। राहुल बोस लिखते हैं कि इस आंदोलन को राजनीतिक दलों द्वारा हाइजैक करने की कोशिश आश्चर्यचकित करती है। गुल पनाग कहती हैं कि इस आंदोलन को कुछ असमाजिक तत्वों द्वारा हाईजैक करने की कोशिश की जा रही है हमें उनसे लड़ना होगा। ये लोग पुलिस को उत्तेजित कर रहे हैं।