19 February 2019



राष्ट्रीय
पीड़ित की मौत पर रो रहा देश, देर रात पहुंचेगा शव
29-12-2012
13 दिन बाद जिंदगी की जंग हार गई दिल्ली गैंगरेप पीड़िता का शव सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद भारत के लिए रवाना कर दिया जाएगा। शव शनिवार की देर रात तक भारत पहुंच सकता है। विमान में मृतका के माता-पिता, डाक्टर तथा पुलिस अधिकारी आएंगे गैंगरेप पीड़िता ने शुक्रवार देर रात करीब 2:15 बजे गैंगरेप पीड़िता ने सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में अंतिम सांस ली। इस खबर ने उसके परिजनों की आंखें नम कर दी। उसके बावजूद उसके माता-पिता ने कहा है कि उनकी बेटी का बलिदान खाली नहीं जाएगा। उम्मीद करते हैं कि सरकार देश की महिलाओं को सुरक्षित करने के लिए उचित कदम उठाएगी। पीड़िता की मौत पर संवेदना जताते हुए यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि एक महिला और मां होने के नाते वह लोगों के दर्द और आक्रोश को समझती हैं। उन्होंने कहा कि युवति की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाई जाएगी। इससे पहले, अस्पताल के सीईओ डॉक्टर केलविन लोह ने इस बात की जानकारी देते हुए रात 4:15 बजे कहा कि वी आर सॉरी टू से दैट शी इज नो मोर [हमें अफसोस है कि हम उसे बचा नहीं सके]। माउंट एलिजाबेथ के डाक्टर ने बताया कि पीड़ित के साथ जिस तरह का अमानवीय व्यवहार किया गया उसको बयां करना मुश्किल है। डॉक्टर लोह ने पीड़ित को मस्तिष्क में चोट लगने और लंग इंफेक्शन की भी पुष्टि की है। शुक्रवार रात को पीड़िता के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। पीड़िता को सांस दिलाने के लिए क्रत्रिम सांस दी गई इसके साथ ही हाईडोज एंटीबायोटिक भी पीड़िता को दी जा रही थी। लेकिन डॉक्टरों की सारी कोशिशें और करोड़ों भारतीयों की दुआएं उस वक्त बेकार साबित हुर्ई जब पीड़िता ने दम तोड़ दिया। उस वक्त वहां पर पीड़िता के माता-पिता समेत भारतीय राजदूत भी वहां पर मौजूद थे। उसकी अंतिम सांस टूटते ही वहां मौजूद सभी की आंखें नम हो गई इस खबर के भारत आने पर जिस किसी ने भी इस खबर को देखा उसकी आंखे नम हो गई। लड़की के पार्थिव शरीर को आज ही भारत वापस ले आया जाएगा। वहीं जिस वक्त पीड़िता ने अंतिम सांस ली उस वक्त वहां पर उसके माता-पिता और भारतीय उच्चायोग के राजदूत भी वहां मौजूद थे। इस बीच दिल्ली में इस खबर के आते ही सुरक्षा प्रबंध चाकचौबंद कर दिए गए।