21 February 2019



प्रमुख समाचार
वर्ष 2012 में अनेक मामलों में देश में अव्वल रहा मध्यप्रदेश
05-01-2013

वर्ष 2012 में मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में अनेक क्षेत्र में देश में अव्वल होकर उभरा। इसी वर्ष प्रदेश की कृषि विकास दर देश में सबसे ज्यादा 18 प्रतिशत हुई और 12 प्रतिशत विकास दर अर्जित कर प्रदेश देश में दूसरे स्थान पर रहा। गेहूँ और धान के उपार्जन और भण्डारण के नवाचारी प्रयासों की देश भर में सराहना हुई तो प्रदेश अपना वन क्षेत्र भी बरकरार रखने में सफल रहा।

  • मछुआरों के बीमा में राज्य देश में अव्वल।

  • गेहूँ उपज खरीदने के लिये किसानों को एसएमएस से आमंत्रण देने वाला मध्यप्रदेश पहला राज्य।

  • जल-संरक्षण के क्षेत्र में श्रेष्ठ नवाचारों के लिये संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा देवास जिले के भागीरथ कृषक अभियान का चयन- जिले के रेवा सागर तालाब विश्व के लिये प्रेरणा-स्रोत बने।

  • गेहूँ उपार्जन में सायलो बेग के उपयोग में देश में अव्वल बना मध्यप्रदेश।

  • प्रदेश में इस वर्ष अनुसूचित-जाति के प्रकरणों में दोष-सिद्धि की दर सर्वाधिक रही। करीब 98 प्रतिशत प्रकरणों में हुआ चालान।

  • किसानों के हित में बड़ा फैसला। शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण देने का आदेश 13 जुलाई को जारी।

  • सेवारत महिलाओं के लिये सिविल सेवा में आवेदन के लिये अधिकतम आयु सीमा 45 वर्ष हुई।

  • वक्फ सम्पत्तियों के कम्प्यूटरीकरण के मामले में मध्यप्रदेश देश में अव्वल। कुल 15 हजार सम्पत्तियों का कम्प्यूटरीकरण।

  • कृषि विकास दर में मध्यप्रदेश देश में अव्वल हुआ और आर्थिक विकास दर में दूसरे नम्बर पर पहुँचा।

  • चार नये सॉफ्टवेयर का लोकार्पण कर सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में पुनः देश में अग्रणी बना वन विभाग।

  • 21 लाख से ज्यादा निर्माण श्रमिकों का पंजीयन कर देश में पहला राज्य बना मध्यप्रदेश।

  • मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में बुजुर्गों को तीर्थ-दर्शन करवाने वाला मध्यप्रदेश देश ही नहीं विश्व का पहला राज्य बना।

  • मध्यप्रदेश सोयाबीन के उत्पादन में देश में सबसे आगे।

  • वेयर-हाउसिंग और लॉजिस्टिक पॉलिसी बनाने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य बना।

  • 21 सितम्बर को साँची में श्रीलंका के राष्ट्रपति और भूटान के प्रधानमंत्री की उपस्थिति में साँची बौद्ध एवं भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय का शिलान्यास।

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर देश के पहले ट्रेवलेटर का शुभारंभ।

  • बाँस काटने वाले श्रमिकों को पहली बार मिला लाभांश।

  • निजी महाविद्यालयों की छात्राओं को भी ‘गाँव की बेटी’ योजना का लाभ देने का निर्णय।

  • लाड़ली लक्ष्मी योजना में लाभान्वित बालिकाओं के माता-पिता का राज्य शासन द्वारा बीमा करवाने और बेटियों वाले परिवार को विशेष सुविधा देने का निर्णय।

  • दैनिक वेतनभोगियों की सेवा में दो वर्ष की वृद्धि का मंत्रि-परिषद द्वारा निर्णय।

  • नवम्बर से प्रदेश में सरदार पटेल निःशुल्क औषधि वितरण योजना शुरू हुई। योजना में प्रदेश की सभी शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में निःशुल्क दवा वितरण।

  • राष्ट्रीय उत्पादकता से दोगुना हुई मध्यप्रदेश की मत्स्य उत्पादकता। मत्स्य उत्पादकता- 25 किलो प्रति हेक्टेयर और देश में साढ़े 12 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर।

  • प्रदेश का दुग्ध उत्पादन भी राष्ट्रीय दर साढ़े 4 प्रतिशत से अधिक-8.5 प्रतिशत हुआ।

  • भारत सरकार ने एक जनवरी, 2013 से कुछ योजनाओं में केश सब्सिडी खाते में जमा करने का निर्णय लिया। मध्यप्रदेश में पहले से ही लागू है यह व्यवस्था।

  • प्रदेश में महुआ संग्राहकों को पहली बार मिला बोनस।

  • देश का सबसे बड़ा वनाच्छादित क्षेत्र मध्यप्रदेश में, फारेस्ट कवर बरकरार।

  • देश के पहले गौ-अभयारण्य का मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले के सुसनेर में भूमि-पूजन।

  • वनकर्मियों को पी.डी.ए. वितरण करने वाला मध्यप्रदेश पहला राज्य बना।

  • प्रारंभिक शिक्षा सुधार में चीन सहित दुनिया के 8 देशों के लिये मध्यप्रदेश बना रोल मॉडल।

  • बाघविहीन हो चुके पन्ना टाइगर रिजर्व में वन विभाग को मिली 18 बाघों को बसाने में सफलता।