16 February 2019



राष्ट्रीय
अब भी बाज नहीं आया पाकिस्तान, फिर की सीमा पर फायरिंग
11-01-2013
अपनी आदत से लाचार पाकिस्तान ने गुरुवार को नियंत्रण रेखा पार से एक बार फिर संघर्षविराम का उल्लंघन किया। पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के पुंछ और कृष्णाघाटी सेक्टर में भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की। इसके साथ ही पाकिस्तान ने पुंछ सीमा में चकना-दा-बाग से नियंत्रण रेखा पर व्यापार के लिए अपने दरवाजे बंद कर लिए। जबकि, कश्मीर में उड़ी-सलामाबाद मार्ग पर अमन कमान सेतु से सामानों का आदान-प्रदान जारी रहा। इससे दो दिनों पहले ही पाक सैनिकों ने भारतीय सीमा में घुसपैठ कर दो भारतीय सैनिकों की हत्या कर दी थी और और उनके शवों को क्षत विक्षत कर दिया था। इस बीच, पाकिस्तान ने सीमा पर व्यापार बंद कर दिया है। इसके तहत भारत के 35 ट्रक वहां रुके पड़े हैं। उधर, पाकिस्तान ने आरोप लगाया है कि भारतीय सेना ने उकसावे वाली कार्रवाई की और भारतीय सैनिकों की फायरिंग से उसके एक सैनिक की मौत हो गई। हालांकि भारतीय सैन्य मुख्यालय ने पाक के इन आरोपों का खंडन किया है। बताया गया है कि पाकिस्तानी सेना ने पुंछ के बट्टाल इलाके में लगभग 4:30 बजे गोलीबारी शुरू की। भारतीय सेना ने इसका करारा जवाब दिया है। इसके साथ ही पाकिस्तान ने पुंछ सीमा में चकना-दा-बाग से नियंत्रण रेखा पर व्यापार के लिए अपने दरवाजे बंद कर लिए। जबकि, कश्मीर में उड़ी-सलामाबाद मार्ग पर अमन कमान सेतु से सामानों का आदान-प्रदान जारी रहा। पुंछ सीमा पर भारतीय जवानों की बर्बर हत्या के दो दिन बाद गुरुवार सुबह जम्मू के व्यापारियों ने टमाटर व अन्य सामान से लदे 25 ट्रकों को गुलाम कश्मीर के व्यापारियों के लिए रवाना किया। जैसे ही ट्रक चकना-दा-बाग ट्रेड सेंटर से पाकिस्तान सीमा की ओर बढ़े तो वहां की सेना ने गेट ही नहीं खोला। काफी इंतजार करने के बाद ट्रक चालक पुंछ लौट आए। गौरतलब है कि इसी सप्ताह पाकिस्तान की ओर से सामान लेकर आए एक ट्रक में एके-47 राइफल की दगे कारतूस व उसके टुकड़े बरामद हुए थे। उधर, कश्मीर के व्यापारियों का सामान पाकिस्तान ने स्वीकार कर लिया। उड़ी से रवाना हुए 50 ट्रकों के लिए पाकिस्तानी सेना ने गेट खोल दिए। गुलाम कश्मीर से भी 27 ट्रक संतरे, बादाम, सेब व प्याज लेकर कश्मीर आए। पाकिस्तान की इस हरकत के बाद व्यापारियों को डर सताने लगा है कि कहीं पाकिस्तानी सेना इस व्यापार को पूरी तरह बंद न कर दे। चूंकि जम्मू से गुलाम कश्मीर जाने वाले अधिकतर ट्रकों में टमाटर लदा है, कुछ ही दिन में यह खराब होने के बाद व्यापारियों का नुकसान तय है। बता दें कि सीमा पर हर रोज करोड़ों का व्यापार होता है। नियंत्रण रेखा पर व्यापार की प्रक्रिया मंगलवार से शुक्रवार तक चलती है।