15 February 2019



राष्ट्रीय
पहाड़ों पर बर्फ, दिल्ली में पड़े ओले
18-01-2013
बारिश और बर्फबारी से उत्तर भारत के कई हिस्सों में मौसम ने करवट ले ली है। पहाड़ों पर जहां बर्फबारी से ठिठुरन में इजाफा हो गया, वहीं मैदानी इलाकों में बारिश से ठंड एक बार फिर लौट आई। दिल्ली-एनसीआर में वीरवार रात बारिश व ओले पड़ने से ठिठुरन बढ़ गई है। राष्ट्रीय राजधानी में जनवरी में बारिश का दस साल का रिकार्ड टूट गया। यहां रातभर रुक-रुक कर बारिश हुई, देर रात कई जगहों पर ओले भी पड़े। शुक्रवार सुबह भी कई इलाकों में तेज बारिश हुई। भारी बर्फबारी के कारण जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद कर दिया गया, जिससे वादी का देश के अन्य हिस्सों से संपर्क कट गया। अगले 48 घंटों में और बर्फबारी और बारिश के आसार हैं। राजधानी दिल्ली में भी झमाझम बारिश होने से तापमान में गिरावट दर्ज की गई। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में सुबह हुई बारिश और ओलावृष्टि से ठंड फिर लौट आई। बिजली गिरने से आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन झुलस गए। सहारनपुर में तेज आंधी के साथ ओले पड़े। कई जगह जलभराव व सड़कों पर कीचड़ फैलने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। बारिश सरसों, अलसी, मटर, टमाटर, मिर्च, गेहूं, चना और मसूर की फसलों के लिए अमृत बनकर आई है। उत्तराखंड में दो दिन से उमड़-घुमड़ रहे बादलों ने गुरुवार को निराश नहीं किया और केदारनाथ, बदरीनाथ धाम समेत चोटियों को बर्फ की चादर ओढ़ा दी। निचले क्षेत्रों में बूंदाबांदी हुई। कुछ क्षेत्रों में ओलावृष्टि भी हुई। पिथौरागढ़ में थल-मुनस्यारी मार्ग पर जोरदार बर्फबारी के कारण कुछ देर यातायात बाधित रहा। बर्फबारी व वर्षा के चलते भले ही ठिठुरन में इजाफा हो गया है, लेकिन लंबे अर्से से वर्षा, बर्फबारी का इंतजार कर रहे किसानों और फल उत्पादकों के चेहरे खिल गए। पंजाब व हरियाणा के कई इलाकों में दिनभर हुई बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त रहा। चंडीगढ़ में देर शाम ओलावृष्टि भी हुई। दो दिन के बाद दोबारा शीतलहर की सक्रियता से कई जगहों पर पारा अधिकतम और न्यूनतम के लिहाज से 5.0 डिग्री सेल्सियस तक नीचे लुढ़क गया। रोहतक में खुले में रखी गेंहू की सैकड़ों बोरियां बारिश में भीग गई। इस सीजन के पहले हिमपात से पहाड़ों की रानी शिमला खिल उठी। हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले स्थानों पर लंबे इंतजार के बाद फिर से पहाड़ों ने बर्फ की चादर ओढ़ ली। अधिकतर क्षेत्रों में बर्फबारी का सिलसिला जारी है। हिमपात और निचले इलाकों में बारिश से समूचा प्रदेश कड़ाके की ठंड की चपेट में आ गया। शिमला सहित पर्यटन स्थलों नालदेहरा और हाटूपीक में बर्फबारी का आनंद लेने के लिए पर्यटकों का तांता लग गया। केलंग में सबसे कम (-3 डिग्री सेल्सियस) तापमान रहा। जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से भारी बर्फबारी से वादी देश के अन्य हिस्सों से कटा रहा। जवाहर सुरंग के पास हिमपात होने से राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया गया। मौसम विभाग ने बर्फीले तूफान के मद्देनजर लोगों को घर से बाहर न जाने की हिदायत दी है।