24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
शिंदे की टिप्पणी को पाक ने बताया आंतरिक मामला
23-01-2013
पाकिस्तान ने भारत से कहा है कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों को नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम उल्लंघन को लेकर बातचीत करनी चाहिए। इसी कारण दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। द न्यूज अखबार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पहले मीडिया के जरिए फिर राजनयिक स्तर पर बातचीत का सुझाव पाकिस्तानी विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने दिया। वह यह देखना चाहतीं थीं कि भारत इस पर क्या प्रतिक्रिया देता है। अखबार ने एक वरिष्ठ राजनयिक के हवाले से कहा कि भारत ने पाकिस्तान की सलाह को ध्यान से सुना। खार के प्रयास की तारीफ भी की गई। अधिकारी ने कहा, \'हम भी महसूस करते हैं कि घरेलू चिंताओं के कारण बातचीत प्रारंभ करने में समय लगेगा। लेकिन दोनों पक्ष महसूस करते हैं कि उनके बीच बातचीत ही एकमात्र रास्ता है।\' भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सलमान बशीर ने भारतीय अधिकारियों को बताया है कि उनका देश नियंत्रण रेखा के पास संघर्ष विराम उल्लंघन के दौरान एक भारतीय सैनिक का सिर काटने की घटना की जांच कराने को तैयार है। आतंकवाद को बढ़ावा दिए जाने संबंधी भारत के गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के बयान को भारत का आंतरिक मामला बताया है। शिंदे के बयान पर प्रतिक्रिया में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोअज्जम खान ने द न्यूज अखबार से कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है। खान ने कहा, \'पाकिस्तान का रुख बहुत स्पष्ट है। हम एक बार फिर यह मांग करते हैं कि समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले की जांच की जाए जिसमें कई निर्दोष पाकिस्तानी मारे गए थे। हम चाहते हैं कि जांच को पाकिस्तान के साथ साझा किया जाए और दोषियों को कानून के मुताबिक सजा मिले।