19 February 2019



राष्ट्रीय
गुजरात के नमक और दूध पर चलता है देश: मोदी
06-02-2013
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि देश को स्वराज तो मिला लेकिन आजादी के 60 वर्षो के बाद भी सुशासन नहीं मिल सका हैं। उन्होंने कहा कि इसको लेकर आज देश में निराशा का माहौल है। राजधानी के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में एक कार्यक्रम के दौरान नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश सुराज के लिए चिंतित और जिसको हासिल करने के लिए सोचने का नजरिया बदलने की जरूरत हैं। हमें स्किल, स्पीड और स्केल को आगे बढ़ाने की जरूरत है। इससे पहले इस कार्यक्रम में नरेंद्र मोदी के शामिल होने को लेकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया गया। गुजरात के मुख्यमंत्री ने सुराज पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि इसको लेकर देश निराशा में डूब गया है। उन्होंने कहा कि मेरे सुराज का मतलब गुडगवर्नेस से हैं क्योंकि आजादी के 60 साल बाद भी देश को अच्छा प्रशासन नहीं मिला हैं। उन्होंने कहा कि हम अभी भी बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं लेकिन इसके लिए नजरिया अलग होना चाहिए। नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसी संविधान, कानून से आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि मेरा देश दुनिया का सबसे नौजवान देश हैं लेकिन हम युवा शक्ति का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि दुनियाभर में गुजरात के विकास की चर्चा है और देश की हर चाय में गुजरात का दूध है। इतना ही नहीं सिंगापुर में भी गुजरात का दूध उपलब्ध हैं। इससे पहले राजधानी के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स कॉलेज के इस कार्यक्रम में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के शामिल होने को लेकर बुधवार को जमकर विरोध किया गया। गुजरात नरेंद्र मोदी के विरोध में छात्र संगठन आइसा के छात्र दिल्ली विश्वविद्यालय के इस प्रसिद्ध कॉलेज के बाहर जमा हुए और विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने मोदी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पुलिस की ओर से प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश करते हुए कॉलेज के बाहर धारा 144 लागू कर दी हैं। मोदी के आने का विरोध का अंदेशा पहले से ही जताया जा रहा था। वहीं, विपक्षी खेमे में प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी की उम्मीदवारी को लेकर मचे घमासान के बीच बुधवार को दिल्ली पहुंचे मोदी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मुलाकात की। मोदी के मुताबिक मुलाकात का सबब गैस की कीमतों पर राज्य सरकार और केंद्र के बीच मतभेदों सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा था। वहीं मोदी उनकी प्रधानमंत्री पद की दावेदारी को लेकर उठे सभी सवालों को टाल गए। गुजरात में तीसरी बार मुख्यमंत्री पद संभालने के बाद मोदी पहली बार प्रधानमंत्री से मिलने 7 रेसकोर्स रोड पहुंचे थे। प्रधानमंत्री कार्यालय सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री और मोदी के बीच करीब 15 मिनट की यह सीधी मुलाकात थी जिसमें अधिकारी मौजूद नहीं थे। मुलाकात के बाद मीडिया से रूबरू मोदी ने कहा कि राच्य को मुद्दों पर उनकी और प्रधानमंत्री की चर्चा काफी सकारात्मक रही। मोदी के मुताबिक पीएम ने गैस मूल्यों पर राज्य की ओर से उठाए गए मुद्दों पर गौर करने का आश्वासन दिया। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार चाहती है कि अहमदाबाद व राज्य के अन्य शहरों में दिल्ली व मुंबई की तर्ज पर प्रशासित मूल्य व्यवस्था के तहत सस्ती गैस उपलब्ध कराई जाए। राज्य सरकार इसके लिए दिल्ली व मुंबई की तरह अहमदाबाद में भी ऊंचे प्रदूषण स्तर की दुहाई दे रही है। मोदी ने मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन भी सौंपा जिसमें सरदार सरोवर परियोजना व नर्मदा से जुड़ी अन्य योजनाओं का भी उल्लेख है। मुख्यमंत्री के अनुसार प्रधानमंत्री ने राच्य की जनहित से जुड़ी विकास परियोजनाओं में पूरी मदद देने का भी भरोसा दिया। हालांकि प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी को लेकर अपने चल रही उनके नाम की बहस से जुड़े सवालों को मोदी टाल गए। बार-बार पूछे सवालों पर मोदी ने इतना ही कहा कि मित्रों आप लोगों से मिलकर अच्छा लगा। दिल्ली पहुंचे मोदी बुधवार शाम श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स के बिजनेस कांक्लेव में युवाओं को संबोधित करेंगे। इस संबोधन के सहारे मोदी की कोशिश गुजरात के विकास मॉडल का हवाला देते हुए युवाओं को लुभाने की होगी। साथ ही दिल्ली प्रवास के दौरान मोदी की मुलाकात पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं से भी हो सकती है।