24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
उत्तर कोरिया ने किया तीसरा परमाणु परीक्षण, ओबामा ने बताया भड़काने वाला कदम
12-02-2013
उत्तर कोरिया ने पश्चिमी देशों की ठेंगा दिखाते हुए अपना तीसरा परमाणु परीक्षण कर दिया है। उत्तर कोरिया के इस कदम के बाद उसके मुख्य सहयोगी चीन समेत पूरी दुनिया ने निंदा की है। अंतरराष्ट्रीय जगत ने उत्‍तर कोरिया और इसके नेता किम जोंग इल पर कड़ी कार्रवाई मांग की है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी पहली प्रतिक्रिया में कहा है कि उत्तर कोरिया का यह कदम भड़काने वाला है। उत्‍तर कोरिया ने परमाणु परीक्षण की पुष्टि करते हुए कहा है कि उसने भूमिगत विस्फोट कर तीसरा सफल परीक्षण किया है। उसका दावा है कि यह सफलता उसे छोटे उपकरण से मिली। इससे पता चलता है कि वह बैलिस्टिक मिसाइल में परमाणु आयुध लगाने की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ गया है।अमेरिकी जियोलॉजिकल सर्विस ने उत्तर कोरिया में मंगलवार सुबह 4.9 तीव्रता के कृत्रिम भूकंप के झटके रिकॉर्ड किए हैं। भूकंप का केन्द्र प्योंगयांग से 379 किमी. उत्तर-पूर्व था। दक्षिण कोरिया, जापान और अमेरिका का मानना है कि उत्तर कोरिया के उन दो स्थानों पर अथवा उनके पास परमाणु परीक्षण किया गया है जहां 2006 और 2009 में परमाणु परीक्षण हुए थे। उन्होंने भूंकप की तीव्रता 4.7 और 5.2 मापी है। 2006 और 2009 में उत्तरी कोरिया में हुए परमाणु परीक्षणों के झटकों की तीव्रता क्रमशः 3.9 और 4.5 थी। दक्षिण कोरिया ने आशंका जताई है कि यह परमाणु परीक्षण बाकि दो परीक्षण की तुलना में बड़ा था। पहले दो परीक्षणों में 6-7 किलोटन का प्लूटोनियम इस्तेमाल किया गया था। हालांकि यह हिरोशिमा (20 किलोटन) पर गिराए गए बम से कम है।