18 February 2019



प्रमुख समाचार
सभी वर्गों को साथ लेकर गरीबी समाप्त करने के लिये संकल्पित है सरकार
26-02-2013

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार ने हर वर्ग के विकास के लिये योजनाएँ बनाई हैं। सर्वाधिक गरीब परिवारों के विकास पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया गया है। श्री चौहान आज यहाँ स्थानीय कोटरा क्षेत्र के नया बसेरा में संत रविदास जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने लोगों को संत रविदास जयंती पर बधाइयाँ दी और संत रविदास मंदिर में आयोजित विशेष पूजा आरती में शामिल हुये। उन्होंने कहा कि यहाँ संत रविदास मंदिर सहित परिसर विकास के संबंध में की गयी मांग पूरी की जायेगी। मुख्यमंत्री ने संत रविदास की शिक्षाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने सभी वर्गों को समान दृष्टि से देखा और मानव समाज को शिक्षा दी कि व्यक्ति केवल कर्म से महान बनता है।

श्री चौहान ने कहा कि प्राकृतिक संसाधनों पर सबका समान अधिकार है। प्राकृतिक संसाधनों के दोहन से मिलने वाली राशि को विकास कार्यों पर ज्यादा से ज्यादा खर्च करने की नीति रही है। उन्होंने कहा कि गरीबों की सेवा और उनका विकास राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। बच्चों को पढ़ाई-लिखाई और रोजी-रोजगार के लिये अब गरीब माता-पिता को चिंता की जरूरत नहीं है। पहली से बारहवीं तक निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें और गणवेश मिल रहा है। अपना खुद का रोजगार लगाने में राज्य सरकार की ओर से बैंक गारंटी लेने, ब्याज अनुदान देने और मार्जिन मनी देने जैसे महत्वपूर्ण कदम उठाये गये हैं। उन्होंने लोगों को बच्चों की पढ़ाई पूरा करवाने की जिम्मेदारी लेने का संकल्प दिलाया।

गृह मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि गरीबों के कल्याण की सबसे ज्यादा योजनाएँ चलाने वाला मध्यप्रदेश अकेला राज्य है। मध्यप्रदेश की योजनाओं की न सिर्फ राष्ट्रीय बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी सराहना हुई है।

मुख्यमंत्री का कार्यक्रम स्थल पर भव्य स्वागत किया गया। उन्होंने नया बसेरा क्षेत्र के निवासियों से विकास योजनाओं के लाभ के संबंध में सीधी बात की। उन्होंने अनेक घरों में जाकर करीब डेढ़ घंटे तक नया बसेरा क्षेत्र के निवासियों से चर्चा की। स्थानीय लोगों ने विकास की अनूठी योजनाओं की सराहना की और जगह-जगह फूलमालाओं से स्वागत किया।

इस अवसर पर महापौर श्रीमती कृष्णा गौर, भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह और बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।