22 February 2019



राष्ट्रीय
वाजपेयी ने मोदी को क्या पाठ पढ़ाया
04-03-2013
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के अंतिम दिन अटल बिहारी वाजपेयी को अपना रोल मॉडल बताया है। उन्होंने कहा कि वाजपेयी अकेले ऐसे प्रधानमंत्री रहे जो कांग्रेस गोत्र के नहीं थे और उन्होंने देश को विकास की राह पर चलाया। अपने भाषण में उन्होंने कहा कि वाजपेयी ने देश में परमाणु परीक्षण कर यह बता दिया कि वह दुनिया के लगाए गए प्रतिबंधों के सामने झुकने वाले नहीं हैं। मोदी ने कहा कि गुजरात दंगों के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी ने उन्हें राजधर्म निभाने का निर्देश दिया था। रविवार को दिए अपने भाषण में उन्होंने जहां भारत को विकास के पथ पर प्रदर्शित करने के लिए वाजपेयी की जमकर तारीफ की वहीं उन्होंने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया। अपने भाषण में उन्होंने करीब पांच बार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश आज वाजपेयी जी खराब सेहत की वजह से इस बैठक का हिस्सा नहीं बन पा रहे हैं, लेकिन केंद्र में भाजपा की सरकार बनते देखना उनकी महत्वाकांक्षा है। दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में पांच हजार कार्यकर्ताओं के बीच मोदी ने जहां कार्यकर्ताओं में मिशन 2014 के लिए जुट जाने को कहा, वहीं कहा कि देश कांग्रेस की सरकार से त्रस्त है। मोदी को पीएम पद की उम्मीदवारी मिलेगी या नहीं यह तो अभी साफ नहीं है, लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत टीडीपी के लिए मोदी को मुस्लिम समुदाय का साथ मिलना लगातार चिंता का विषय बना हुआ है। कांग्रेस जहां मोदी को एक हार्डलाइनर के साथ-साथ गुजरात दंगों के लिए दोषी ठहराती रही है, वहीं मोदी पिछले विधानसभा चुनाव में मिली जबरदस्त जीत से खासा उत्साहित हैं। वाजपेयी को अपना रोल मॉडल बताने वाले मोदी ने अनौपचारिक रूप से मिशन 2014 की कमान अपने हाथों में ले ली है।