17 February 2019



प्रादेशिक
साई बाबा का भोग लगाना है तो 2018 में नंबर आएगा
04-03-2013
अगर आप साई बाबा के भक्त हैं तो आपको अपना भक्ति-भाव उन्हें अर्पित करने के लिए बहुत धैर्य रखना पड़ेगा। साई बाबा के मंदिर में भोग लगाने के लिए 7300 भक्त कतार में हैं। अगर आप मंदिर में आज ही नंबर लगा दें तो आपकी भोग लगाने की बारी मई, 2018 में आएगी। ग्वालियर के विकास नगर में 1976 में स्थापित सांई बाबा का मंदिर पिछले कुछ सालों से भोग अर्पण प्रबंधन के लिए चर्चा में है। भोग अर्पण के लिए साई भक्तों से दानराशि लेकर उनके नाम रजिस्टर में दर्ज कर लिए जाते हैं। उनका नंबर आने पर उनके नाम से भोग लगता है। ट्रस्ट कार्यालय में इस समय भोग की थाली चढ़ाने के लिए 7300 भक्तों का पंजीकरण हो चुका है। 2018 तक बाबा का भोग इन्हीं भक्तों के नाम से लगेगा। नये लोगों को 2018 के बाद भोग लगाने का मौका मिल पाएगा। साई मंदिर में दर्ज नामों की जब बारी आती है, उन्हें दो सप्ताह पहले पोस्टकार्ड भेजकर सूचना दी जाती है। न्यास भोग वाले दिन फोन करके भी संबंधित भक्त को मंदिर में बुलाता है। एक दिन में चार भक्तों के नाम से थाली का भोग लगता है। दो भक्तों की ओर से सुबह 12 बजे और दो भक्तों की ओर से शाम को छह बजे। इन भक्तगणों को थाली में रखा प्रसाद आरती के बाद प्रदान किया जाता है। भोग की थाली के लिए श्रद्धालुओं से 201 रुपये की दानराशि ट्रस्ट कार्यालय में जमा कराई जाती है।