16 February 2019



खेलकूद
..तो धौनी एंड कंपनी के गुरु बनना चाहते हैं स्टाइलिश अजहरुद्दीन!
11-03-2013

बाराबंकी। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान तथा मुरादाबाद के सांसद मो. अजहरुद्दीन ने भारतीय क्रिकेट टीम में विदेशी कोच के पक्ष में नहीं हैं। उनके अनुसार पूर्व भारतीय क्रिकेटर ही कोच के रूप में फिट रहेगा तथा खिलाडि़यों को बेहतर ढंग से समझेगा। अजहर केडी सिंह बाबू स्टेडियम में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि क्रिकेट में विदेशी कोचों के स्थान पर भारतीय प्रशिक्षकों को अवसर दिया जाना चाहिए। वे टीम के लिए अधिक उपयोगी सिद्ध होंगे। ऐसा नहीं है कि भारतीय खिलाड़ी अच्छे कोच नहीं बन सकते। उन्होंने कहा कि अगर उन्हे कोच की भूमिका निभानी पड़े तो वे सहर्ष तैयार है। खेल की नर्सरी छोटे जिलों से होती है आगे चलकर अन्तरराष्ट्रीय खिलाड़ी निकल सकते है। प्रदेश को अपनी खेल नीति पर अधिक ध्यान देना चाहिए। अजहर ने कहा कि आइपीएल युवा खिलाडि़यों के लिए बेहतर प्लेटफार्म है इससे टेस्ट क्रिकेट को कोई नुकसान नहीं है। अभी भी टेस्ट मैच में बेहतरीन खिलाड़ी खेल रहे है। सचिन तेंदुलकर के वन डे मैच में संन्यास लेने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह उनका निजी फैसला है वे अभी भी बेहतर क्रिकेट खेल रहे हैं। उनकी क्रिकेट काफी बाकी है। आस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच सीरीज में बढ़त लेने के बाबत उन्होंने कहा कि खिलाडि़यों की एकजुटता से ही टीम इंडिया जीत रही है।