22 February 2019



राष्ट्रीय
पंजाब: लाडली की लाज के लिए दर-दर मोहताज
30-03-2013
जहां छेहर्टा में एक एएसआई बेटी की लाज के लिए मौत का शिकार हुआ वहीं बटाला में एक एएसआई पिता अपनी लाडली को इंसाफ दिलाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है। जनता की रक्षा के लिए पुलिस की वर्दी पहनने वाला खुद अपनी बेटी की सुरक्षा नहीं कर पा रहा। नाबालिग बेटी का अपहरण करने वाले खुलेआम घूम रहे हैं। अराजकता का आलम यह है कि बेखौफ अराजक तत्व दिन में सैकड़ों फोन कर धमका रहे हैं और जबरन शादी का शादी का दबाव बना रहे हैं। इतना ही नहीं मुंह खोलने पर परिवार समेत मौत की नींद सुलाने की धमकी भी दे रहे हैं। इंतेहा तो यह है कि पुलिस भी अराजक तत्वों पर शिंकजे के बजाए लड़की व उसके पिता जो कि खुद विभाग में थानेदार के पद पर हैं को आरोपी से शादी की सलाह दे रही है। एएसआई पिता के मुताबिक उसकी बेटी का 24 फरवरी को अपरहण किया गया। पुलिस से शिकायत करने पर अपहरणकर्ता कुछ घंटे बाद उनकी बेटी को छोड़ गए। शिकायत पर एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया, लेकिन तीन अभी भी खुलेआम घूम रहे हैं। पुलिस अधिकारियों के दफ्तर में बैठकर आरोपी चाय पीते हैं। खुद पुलिस विभाग में रहते हुए थानेदार को जब पुलिस से इंसाफ नहीं मिला तो लाचार पिता ने अब राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग का दरवाजा खटखटाते हुए इंसाफ की गुहार लगाई है। आयोग के उपाध्यक्ष डा. राजकुमार के समक्ष शुक्रवार को वह सपरिवार पेश हुए। एएसआई की बेटी ने आयोग के समक्ष बयान दिया कि वह असुरक्षित है। कालेज से आते-जाते बेखौफ अराजक तत्वों द्वारा सरेआम र्सेराह छेड़ा जा रहा है। कालेज से घर तक पीछा किया जाता है। दिन में सैकड़ों फोन धमकी भरे आ रहे हैं। जबरन शादी करने का दबाव डाला जा रहा है। वह मेडिकल की छात्र है। वह पढ़ना चाहती है, लेकिन वह मानसिक तौर पर प्रताड़ित हो रही हैं। लड़की की मां लेक्चरर हैं। वह कहती हैं कि सियासी दबाव के कारण पुलिस कुछ नहीं कर पा रही है। शिकायत करने पर पुलिस आरोपी के साथ शादी करने की सलाह देती है।

इस मामले में डा. राजकुमार ने बटाला के एसएसपी मोहन लाल को तलब किया। डा. राजकुमार ने डीएसपी जसवंत कौर को पूरे मामले की इंक्वायरी का निर्देश देते हुए तीन दिन में बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी का निर्देश दिया है।