18 February 2019



प्रादेशिक
मध्यप्रदेश देश का सबसे अधिक जीडीपी वाला प्रदेश बना
30-03-2013

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अब मध्यप्रदेश न केवल बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर आया है, बल्कि आज देश का नम्बर वन प्रदेश बन गया है। श्री सिंह ने बताया कि हाल ही में हुए सर्वे के मुताबिक मध्यप्रदेश देश का सबसे अधिक विकास दर (जीडीपी) हासिल करने वाला राज्य बन गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश ने कृषि के क्षेत्र में भी अप्रत्याशित उपलब्धि हासिल की है। श्री चौहान आज रायसेन जिले की गौहरगंज तहसील के ग्राम तामोट में सागर ग्रुप द्वारा निर्मित टेक्सटाईल इंडस्ट्री का उद्घाटन कर रहे थे।

श्री सिंह ने कहा कि बढ़ती हुई आबादी को ध्यान में रखते हुए अब केवल खेती पर ही निर्भर नहीं रहा जा सकता। हमें खेती पर निर्भरता कम करने के लिए तेजी से प्रदेश का औद्योगीकरण करना होगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अपनी ्औद्योगिक नीति को ज्यादा व्यवहारिक और सरल बनाया है। पिछले वर्षो में आयोजित इन्वेस्टर्स मीट्स के सार्थक परिणाम परिलक्षित होने लगे हैं। अब प्रदेश में तेजी से निवेश आ रहा है और उद्योग लग रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए केवल बड़े उद्योग ही लगाना काफी नहीं है। गाँव-गाँव में लघु एवं कुटीर उद्योगों का जाल बिछाना होगा। इससे हर हाथ को काम मिलेगा और जीवन-स्तर बेहतर होगा। श्री चौहान ने युवाओं का आव्हान किया कि वे प्रदेश के विकास में सक्रिय भूमिका निभाएँ। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना लागू की है। योजना में युवाओं को अपना रोजगार स्थापित करने के लिए 25 लाख रूपए तक ऋण दिया जाएगा। बैंको को इस ऋण की गारंटी राज्य सरकार देगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मई के अंत तक प्रदेश के सभी गाँव में 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवा दी जाएगी। भरपूर बिजली का सीधा प्रभाव प्रदेश की अर्थ-व्यवस्था पर पड़ेगा। प्रदेश का तेजी से औद्योगीकरण होगा और अर्थ-व्यवस्था गतिमान होगी।

लगभग 120 करोड़ की लागत से निर्मित 20 टन उत्पादन क्षमता वाली इस टेक्सटाईल इंडस्ट्री में 500 व्यक्ति को रोजगार उपलब्ध करवाया जा रहा है। अगले चरण में लगभग 2000 व्यक्ति को रोजगार उपलब्ध करवाने का लक्ष्य है। कार्यक्रम को पूर्व मुख्यमंत्री श्री सुन्दरलाल पटवा तथा विधायक श्री सुरेन्द्र पटवा ने भी संबोधित किया।