17 February 2019



प्रादेशिक
उपलब्धि मंजिल नहीं पड़ाव है- मुख्यमंत्री श्री चौहान
30-03-2013

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश का सकल घरेलू उत्पाद में भारत के बड़े राज्यों की तुलना में प्रथम आना मेरे और प्रदेशवासियों के लिये संतोष और गर्व का विषय है। पर यह उपलब्धि मंजिल नहीं पड़ाव है। विकास के क्षेत्र में अभी बहुत आगे जाना है।

श्री चौहान ने सकल घरेलू उत्पाद में मध्य प्रदेश को प्रथम स्थान प्राप्त करने पर अपनी खुशी जाहिर करते हुये आज यहां कहा कि प्रदेशवासियों के सहयोग से ही यह संभव हुआ है। उन्होंने विकास प्रक्रिया में लोगों और प्रशासनिक अमले की सक्रिय भागीदारी करने की सराहना करते हुए कहा कि लोगों के निरंतर सहयोग से प्रदेश देश का समृद्ध प्रदेश बनेगा। ऐतिहासिक रूप से पिछड़ा और बीमारू राज्यों की श्रेणी में गिना जाने वाला प्रदेश। पिछले कुछ वर्षों से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। विशेष रूप से अधोसंरचना विकास में उल्लेखनीय कार्य हुये हैं। नये उद्योग आ रहे हैं। सिंचाई की सुविधायें बढ़ी हैं। कृषि उत्पादन में जर्बदस्त बढ़त हासिल हुई है। पूरे प्रदेश में हर दिन 24 घंटे विद्युत उपलब्धता होने जा रही है।

श्री चौहान ने कहा कि पूरे देश में प्रथम स्थान प्राप्त करना निश्चित तौर पर गर्व का विषय है। प्रदेश को अभी नई ऊंचाईयों तक ले जाना है। हम रुकेंगे नहीं। प्रगति और विकास की राह पर प्रदेश को और आगे ले जायेंगे।

श्री चौहान ने प्रदेश का इस विकास यात्रा में भागीदार प्रदेश के किसानों, व्यापारियों, उद्योग जगत सहित जन प्रतिनिधियों और अधिकारी-कर्मचारियों को बधाई दी है।

ज्ञात हो कि केन्द्रीय सांख्यिकी संगठन द्वारा जारी विकास आंकड़ों के अनुमान के अनुसार 10.02 प्रति वर्ष विकास दर हासिल कर वर्ष 12-13 में मध्यप्रदेश देश के बड़े राज्यों मं सबसे आगे हैं।