19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
तालिबान आतंकियों का कोर्ट पर हमला, 53 की मौत
04-04-2013
अफगानिस्तान के फराह शहर में बुधवार को तालिबान आतंकियों ने अदालत पर हमला कर 53 लोगों की जान ले ली और 91 को घायल कर दिया। यह हमला कोर्ट में सुनवाई के लिए लाए गए आतंकियों को छुड़ाने के लिए किया गया था। अधिकारियों ने बताया कि हमलावर नौ थे। इनमें से एक ने खुद को धमाके से उड़ा लिया। तालिबान के प्रवक्ता ने सभी आतंकियों को छुड़ाए जाने की पुष्टि की है। यह पिछले एक साल से शांत अफगानिस्तान में सबसे घातक हमला है। काबुल में दिसंबर, 2011 में शिया दरगाह पर हुए आतंकी हमले में 80 लोगों की मौत हो गई थी। अभी तक यह साफ नहीं हो सकता है कि आतंकी अपने साथियों को ले जाने में सफल हो पाए हैं या नहीं। घायलों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने एक कैदी के घायल होने की पुष्टि की है। गृह मंत्रालय के उप प्रवक्ता नजीब दानिश ने बताया कि अभी तक 53 लोग मारे जा चुके हैं। इनमें से ज्यादातर आम नागरिक हैं। हमले के कई घंटे बाद तक कोर्ट में छिपे एक आतंकी के साथ मुठभेड़ चलती रही। बाद में दानिश ने इस मुठभेड़ के खत्म हो जाने की पुष्टि की। उन्होंने आशंका जताई है कि मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है। फराह के गवर्नर मोहम्मद अकरम ने बताया कि हमले के समय तालिबान आतंकियों के खिलाफ सुनवाई चल रही थी। मारे गए लोगों में 12 अफगान सुरक्षा बल के जवान हैं। तालिबान ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। तालिबान के प्रवक्ता कारी यूसुफ अहमदी के मुताबिक जो विद्रोही मुकदमे की सुनवाई के दौरान कोर्ट में मौजूद थे, उन्हें छुड़ा लिया गया है। हमें जानकारी लगी थी कि राष्ट्रपति हामिद करजई के निर्देश पर इन लड़ाकों के साथ दु‌र्व्यवहार किया जा रहा है।