21 February 2019



प्रादेशिक
सामाजिक और आर्थिक बदलाव परिलक्षित होना चाहिए - कमिश्नर श्री सिंह
04-04-2013

सीहोर जिले में संचालित होने वाले ’कोई न छूटे - कोई न रूठे’ अभियान को शुरूआत देते हुए कमिश्नर भोपाल संभाग श्री एस.बी.सिंह ने कहा कि यह वंचित हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ दिलाने का महत्वपूर्ण प्रयास है। उन्होंने कहा कि यह प्रयास तभी सार्थक माना जाएगा जब समाज में सामाजिक और आर्थिक बदलाव की स्थिति परिलक्षित होगी। इस मौके पर कलेक्टर सीहोर श्री कवीन्द्र कियावत, जिला पंचायत सीहोर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री बी. एस. जामौद और सहायक कलेक्टर श्रीमती रूचिका चौहान सहित अन्य जिलाधिकारी मौजूद थे।

कमिश्नर श्री एस.बी.सिंह ने कहा कि इस अभियान के बाद जिले की एक साफ सुथरी तस्वीर सामने आ जाएगी। यह साफ हो जायगा कि सभी पात्र हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ दे दिया गया है। अपात्र व्यक्तियों को यह बता दिया गया है कि किन कारणों के चलते वे लाभ लेने के पात्र नहीं बन पाए। उन्होंने अधिकारियों को यह साफ निर्देश दिए कि वे इस अभियान को सार्थक बनाने के लिए पूरी लगन, निष्ठा और कर्मठता से कार्य करें। कमिश्नर ने कहा कि अभियान के बाद इसकी हकीकत ग्रामीण स्तर पर देखी जायगी। नतीजे खुद बयां करेंगे कि प्रयास कितने सफल रहे। उन्होंने कलेक्टर श्री कवीन्द्र कियावत के प्रयासों की सराहना की और अधिकारियों को ताकीद की कि वे अपने टीम लीडर (कलेक्टर) का पूरी ईमानदारी से साथ दें। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि समन्वित प्रयासों के चलते यह अभियान जरूर सफल होगा।

इस अवसर पर कलेक्टर श्री कवीन्द्र कियावत ने कहा कि शासकीय योजनाओं के लाभ से वंचित हितग्राहियों को योजनाओं का शतप्रतिशत फायदा पहुंचाने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि इस अभियान में बदली हुई सोच के साथ काम करना होगा। अधिकारी स्वयं लोगों तक पहुंच बनाकर यह देखेंगे कि कौन पात्र हितग्राही योजनाओं के लाभ से वंचित है और उसे मौके पर ही किस तरह लाभांवित करना है। उन्होंने बताया कि अभियान के तहत करीब अठहत्तर गतिविधियां चिन्हित की गई हैं जिनका सफल क्रियान्वयन इस अभियान के दौरान किया जायगा। योजनाओं की निर्धारित पात्रताओं के मुताबिक औपचारिकताएं मौके पर ही पूरी कराई जाकर हितग्राहियों को लाभांवित किया जायगा।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री बी.एस.जामौद ने अभियान की जानकारी देते हुए बताया कि यह एक समन्वित प्रयास है जिसमें हितग्राहियों की खोजबीन कर उन्हें लाभांवित किया जायगा। अभियान के तहत अभी जिला स्तर पर कार्यशाला आयोजित कर मास्टर ट्रेनर्स को प्रशिक्षण दिया जा रहा है जो इसके बाद विकासखंड और क्लस्टर स्तर तक जाकर प्रशिक्षण देंगे। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व भी जिला प्रशासन द्वारा हितग्राहियों को पेंशन योजनाओं का लाभ देने के लिए अभियान चलाया गया था जो पूर्णतः सफल रहा। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान एक लाख चौदह हजार लोगों को पेंशन योजनाओं का लाभ दिलाया गया।