21 February 2019



प्रमुख समाचार
16 अधिकारियों पर पुलिस कार्रवाई की गाज
09-04-2013
मनरेगा मामलों में हुए महाघोटालों का पर्दाफाश होने के बाद अब निवाली जनपद में रहे 16 अधिकारियों पर पुलिस कार्रवाई की गाज गिरेगी। इनमें जांच की निर्धारित अवधि में निवाली में रहे 4 जनपद सीईओ, 4 सहायक यंत्री, 3 नियमित उपयंत्री और 5 संविदा उपयंत्री शामिल हैं। इन अधिकारियों सहित 21 ग्राम पंचायतों के सरपंच-सचिवों से करीब साढ़े 9 करोड़ की राशि वसूली जाएगी। उल्लेखनीय है कि जिले की सभी जनपदों में गत 25 नवंबर 2012 से 20 जनवरी 2013 के बीच प्रदेश के लगभग 100 अधिकारियों ने मनरेगा के तहत वषर्ष 2010-11, 11-12 व 12-13 में 3 लाख से अधिक के कार्यो की जांच की थी। इसी जांच की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की गई है। इन पर गिरी गाज जिला पंचायत सीईओ अजय गुप्ता ने बताया कि मप्र रोजगार गारंटी परिषद के आयुक्त रविंद्र पस्तोर के आदेशानुसार तत्कालीन जनपद सीईओ आरएस तंवर, एमएस कुशवाह, बीके हिरवे व प्रदीप छलोत्रे सहित सहायक यंत्री मनोज शर्मा, के शर्मा, आरसी जोशी व राम कनखरे के विरुद्ध शासकीय धनराशि के दुर्वियोजन व निर्माण कार्य में बरती लापरवाही पर पुलिस कार्रवाई की जाएगी। वहीं इस दौरान पदस्थ रहे नियमित उपयंत्री मनोज वर्मा, महेंद्र मंडलोई व राकेश उमररा पर राशि वसूली व पुलिस कार्रवाई की जाएगी। साथ ही संविदा उपयंत्री दिलीप भालसे, देवराम पावरा, काना जमरे, फूलसिंह नरगांवे व लोकेश कोठार पर वसूली, पुलिस कार्रवाई और पद से पृथक करने की कार्रवाई की जाएगी। कार्रवाई के आदेश जिपं सीईओ गुप्ता ने बताया कि कार्रवाई में शामिल नियमित व संविदा उपयंत्रियों से 5 करोड़ 85 लाख 95 हजार 852 रुपए की राशि वसूली जाएगी। उन्होंने बताया कि मनरेगा आयुक्त के आदेशानुसार निवाली जनपद की 21 ग्राम पंचायत के सरपंच-सचिवों के विरुद्ध पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 के प्रावधानों के तहत कार्रवाई के आदेश हैं। इन ग्राम पंचायतों के सरपंच-सचिवों से कुल 3 करोड़ 56 लाख 93 हजार 994 रुपए की राशि वसूली जाएगी।