19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
सविता मामला: देखभाल करने वाली नर्स ने माफी मांगी
12-04-2013

लंदन। भारतीय मूल की डेंटिस्ट सविता हलप्पनवार की मौत के मामले में एक मिडवाइफ (देखभाल करने वाली नर्स) ने अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगी है। उसने सविता से कहा था कि आयरलैंड के कैथॉलिक देश होने के नाते उसका गर्भपात नहीं हो सकता। एन मारिया बर्के ने स्वीकार किया कि उन्होंने यह टिप्पणी सविता से यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल गालवे में उनकी मौत के कुछ दिन पहले की थी। आयरिश मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक वरिष्ठ मिडवाइफ ने कहा कि जब सविता ने कहा कि वह हिंदू है और अपने देश में गर्भपात करा सकती है तो उन्होंने देश के कानून के बारे में बताने की कोशिश की। बर्के ने मामले की जांच करने वाले गालवे के डॉ. सियारैन मैकलोगलिन को बताया, \'मैंने कहा था कि यह कैथॉलिक देश है। मैंने किसी गलत संदर्भ में यह बात नहीं कही थी।\' उन्होंने अपनी टिप्पणी के लिए अफसोस जताया। सविता 17 हफ्ते की गर्भवती थी जब उन्हें दर्द की शिकायत के बाद पिछले साल 21 अक्टूबर को यूनिवर्सिटी हास्पिटल गालवे में भर्ती कराया गया था। अस्पताल ने उनका गर्भपात करने से इन्कार कर दिया था। तीन दिन बाद उन्होंने मृत बच्चे को जन्म दिया था। इसके तुरंत बाद उन्हें आईसीयू में ले जाया गया था, जहां पर उनकी हालत नाजुक बनी रही थी। 28 अक्टूबर को रक्त के संक्रमण सेप्टिसिमिया के कारण दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई थी।