18 February 2019



प्रादेशिक
डीएफओ ने किया खुलासा, पैसों के लिए बड़े अफसर ने दिया था अपना खाता नंबर
12-04-2013
वन विभाग के दो वरिष्ठ आईएफएस अफसरों पर अनुचित मांग का आरोप लगा चुके बड़वानी डीएफओ एके बरोनिया ने एक और खुलासा करते हुए विभाग को आईसीआईसीआई बैंक का एक खाता नंबर (005501525093) बताया है। उनका आरोप है कि यह खाता नंबर उन्हें पैसा डालने के लिए अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (एपीसीसीएफ) एएस अहलावत ने दिया था। यह खाता अहलावत का ही है और रिकॉर्ड में पता- डी-4/11, चार इमली, भोपाल लिखा हुआ है। अहलावत ने इस बारे में कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया। साथ ही कहा कि बरोनिया क्या बता रहे हैं, इसकी उन्हें जानकारी नहीं है। इधर मुख्य वन संरक्षक केपी सिंह ने बरोनिया के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि आरोपों की जांच हो गई है।  कोई गलती मिली तो कार्रवाई के लिए तैयार हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बरोनिया जब मुरैना में पदस्थ थे, तब वहां गड़बडिय़ां हुईं थीं। आरोप-पत्र पा चुके बरोनिया कुंठित हैं। अनुशासन में रहना घातक होगा : बरोनिया डीएफओ बरोनिया ने वन विभाग को फिर पत्र भेजकर कहा है कि अहलावत दुर्भावनापूर्ण ढंग से जांच करा रहे हैं। पूर्व एपीसीसीएफ आरएन सक्सेना जानते हैं कि उनके द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों का समय-समय पर पालन किया गया है। ग्रीन इंडिया मिशन का काम भी सही तरीके से किया है। फिर भी प्रश्नोत्तरी के साथ आईआईएफएम के लोगों को अहलावत ने बड़वानी भेजा। इससे साफ है कि आईआईएफएम के लोग अध्ययन करने नहीं जांच करने आए हैं। वर्तमान में जो परिस्थितियां निर्मित हो रही हैं, उससे लगने लगा है कि अनुशासन में रहना घातक साबित होगा। क्या है मामला डीएफओ एके बरोनिया ने एपीसीसीएफ अहलावत और सीसीएफ केपी सिंह पर आरोप लगाया था कि वे ग्रीन इंडिया मिशन में गड़बडिय़ों का हवाला देकर अनुचित मांग पूरी करने का दबाव डाल रहे हैं। बरोनिया ने वन विभाग के मुख्यालय को लिखित में इसकी शिकायत की थी। इसके बाद अहलावत और सिंह ने आरोप लगाया था कि बड़वानी जिले में ग्रीन इंडिया मिशन में काफी गड़बडिय़ां हुई है। इसकी जांच चल रही है। आईआईएफएम की एक टीम बड़वानी गई है। हालांकि सूत्रों का कहना है टीम को वापस बुला लिया गया है।