22 February 2019



राष्ट्रीय
भुल्लर स्वस्थ नहीं, अभी रुक सकती है फांसी
16-04-2013

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद आतंकी देविंदर पाल सिंह भुल्लर की फांसी रुक सकती है। बताया जाता है कि भुल्लर अभी स्वस्थ्य नहीं है। भुल्लर का इलाज कर रहे राजधानी के शाहदरा स्थित इंस्टीट्यूट आफ ह्यूमन बिहेवियर एंड एलाइड साइंसेज (इहबास) के एक वरिष्ठ डॉक्टर के अनुसार वह फांसी के लिए मेडिकली फिट नहीं है। पिछले ढाई साल से भुल्लर का इस अस्पताल में इलाज चल रहा है। कानून के मुताबिक मेडिकली फिट हुए बिना किसी भी दोषी को फांसी नहीं दी जा सकती। भुल्लर को डिप्रेशन के साथ गंभीर साइकोटिक बीमारी है। जिसकी वजह से वह नींद में भी उठकर चिल्लाता है। इहबास के निदेशक डॉ निमिष देसाई के अनुसार पिछले ढाई साल से इलाज के बाद भी भुल्लर की स्थिति में सुधार नहीं हुआ है। इस बीच वह दो बार आत्महत्या की कोशिश भी कर चुका है। हालांकि भुल्लर के फांसी के लिए फिट होने के संबंध में पूछे जाने पर देसाई ने कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया। जबकि, इहबास के ही एक अन्य डॉक्टर ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि भुल्लर फांसी के लिए मेडिकली फिट नहीं है। उनके अनुसार भुल्लर के फिट होने या न होने का फैसला केवल इहबास के डॉक्टरों के हाथ में नहीं है। इसके लिए डॉक्टरों की एक विशेषज्ञ टीम (जिसमें अन्य अस्पतालों के डॉक्टर भी होंगे) का गठन किया जाएगा। तिहाड़ जेल प्रशासन भी भुल्लर को फांसी देने की जल्दबाजी में नहीं दिखता। इहबास के डॉक्टर ने कहा कि जेल प्रशासन ने अभी तक भुल्लर को वापस भेजने के लिए अस्पताल से अनुरोध नहीं किया है। वैसे भी अस्पताल के डॉक्टर भुल्लर को मौजूदा हालात में जेल भेजने के लिए तैयार नहीं हैं।