21 February 2019



प्रमुख समाचार
ये है शैतान सिंह पाल का देशभक्त परिवार.......
20-03-2012

देशभक्ति और संस्कारों की पार्टी होने का दावा करने वाली बीजेपी देशद्रोह के आरोपियों का किस तरह से समर्थन करती है इसकी बानगी कहीं दूरदराज के इलाके में नहीं बल्कि राजधानी भोपाल में उस समय देखने को मिली जब बीजेपी सरकार में राज्यमंत्री की सुविधाएं भोग रहे एक नेता शैतानसिंह पाल के छोटे भाई भरत पाल ने देश द्रोह के आरोपी व सिमी प्रमुख नूर मोहम्मद देशमुख के खिलाफ पुलिस को पहले दिए बयान से मुकरते हुए न केवल नूर का समर्थन कर डाला बल्कि यह भी कह दिया कि पुलिस ने उससे जबरदस्ती बयान कराए। गौरतलब है कि मुनीरखान और नूरखान पर देश के विभिन्न इलाकों में आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त रहने के मामले में राजधानी पुलिस ने देशद्रोह का मामला दर्ज किया था। इस मामले में पहले तो सही ढंग से पुलिस ने ही कार्रवाई नहीं की जिससे मुनीर खान को जमानत मिल गई। बाद में मीडिया ने जब इस मामले को जोर-शोर से उछाला तो सरकार की काफी किरकिरी हुई बाद में पुलिस पर दवाब बना और आरोपियों के खिलाफ चालान पेश किया। इस पूरे प्रकरण में पुलिस ने बीजेपी के एक नेता तथा कुक्कुट विकास निगम के अध्यक्ष राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त शैतान सिंह पाल के भाई भरत पाल सहित तीन लोगों के बयान लिए थे। इस मामले में तीनों गवाह ,भोपाल जिला अदालत में अपने बयान से पलट गए। इससे पूरा केस ही कमजोर हो गया है। अदालत ने तीनों गवाहों को पक्ष द्रोही घोषित कर दिया है।

हैरत की बात यह है कि एक ओर आरएसएस तथा बीजेपी के सीनियर लीडर यह कहते हुए नहीं थकते कि उनकी पार्टी देशभक्तों की पार्टी है लेकिन क्या ऐसी ही देशभक्ति बीजेपी में चल रही कि देश द्रोह के आरोपियों के खिलाफ पहले बयान दो और बाद में पलट जाओ। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ,बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष प्रभात झा के लिए यह घटना ऐसी है जिसमें शैतान  सिंह पाल के परिवार ने बीजेपी की नाक ही काटकर रख दी है। अब सवाल यह उठता है कि क्या बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष देशद्रोह के आरोपियों का समर्थन करने वाले नेताओं को खासकर शैतान सिंह पाल को राज्य मंत्री का  दर्जा देकर अपनी सरकार में बनाए रखेंगे या फिर उनसे किनारा करेंगे। यहां सबसे चौंकाने वाली बात यह ही कि बीजेपी ने अभी तक शैतान सिंह पाल के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। वैसे भी भोपाल बीजेपी का अध्यक्ष आलोक शर्मा शाकिब डेंजर जैसे तड़ीपार बदमाशों के साथ खड़े होकर फोटो खिंचवाता है और उन जैसे बदमाशों के लिए चरित्र प्रमाण पत्र जारी किए जाते हैं ऐसे में यदि शैतान पाल सिंह के भाई ने यदि एक देशद्रोह के आरोपी का समर्थन कर दिया तो क्या बुरा किया।

वाकई धन्य है बीजेपी जहां विधायक सुपारी देकर हत्या के मामले में , बीडीए के अधिकारी की संदिग्ध मौतों के मामले में फंसे हों वहां छोटे कार्यकर्ताओं को देश द्रोह के आरोपियों का समर्थन करने का हक तो है। बीजेपी के आला नेताओं को चुल्लू  भर पानी तो कम से कम तलाशना चाहिए कि जिस पार्टी की नींव कुशाभाऊ ठाकरे जैसे त्यागी देशभक्त ने रखी वहां अब चोर,लुटेरे, हत्यारे और देशद्रोही नेताओं की जमात जुड़ रही है।