18 February 2019



प्रमुख समाचार
चर्म शिल्पियों को 5 लाख तक कर्ज: सीएम
25-04-2013
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चर्म शिल्पी पंचायत में चर्मकारों के लिए घोषणाओं का पिटारा खोल दिया। उम्मीद के मुताबिक चर्म शिल्पियों को अपना कारोबार स्थापित करने के लिए बैंकों से कर्ज दिलाने की मुख्यमंत्री अनुदान योजना का एलान हो गया। इसमें दस हजार से लेकर पांच लाख तक के कर्ज की गारंटी सरकार देगी। मार्जिन मनी जमा करने के साथ आधी रकम बतौर अनुदान मुहैया कराई जाएगी। इतना ही नहीं गांवों में लघु शॉपिंग सेंटर बनाए जाएंगे। इनमें चर्मकारों के लिए एक स्थान आरक्षित रहेगा। पंचायत में इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कई और अहम घोषणाएं की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वषर्षो तक समाज के इस वर्ग ने कई चीजें सहन की है। अब कर्ज उतारने की बारी है। सरकार इसमें कोई कसर नहीं छो़़डेगी। जो जहां रह रहा है उसे वहां से कोई माई का लाल नहीं हटा पाएगा। उसे वहीं पर विधिवत पट्टा दिया जाएगा।

सौगातों की बौछार

* चर्मकारों के परिवार में दुर्घटना में मुखिया की मृत्यु होने पर परिजनों को 75 हजार की आर्थिक मदद दी जाएगी।

* सभी चर्मकारों का पंजीयन किया जाएगा। इन्हें चर्म शिल्पी होने का परिचय पत्र भी मिलेगा।

* चर्मकारों के उन बच्चों को जो चिकित्सा या तकनीकी शिक्षा में अच्छे नंबर लाते हैं उन्हें लेपटॉप दिए जाएंगे।

* विदेश पढ़ने की तमन्ना भी भाजपा की सरकार पूरा करेगी। इसमें अधिकतम 15 लाख तक व्यय किया जाएगा।

* स्वरोजगार योजना के तहत 25 लाख तक के कर्ज सरकार अपनी गारंटी पर बैंकों से दिलाएगी। इसमें पांच साल तक पांच फीसदी ब्याज भी खजाने से ही चुकाया जाएगा।

* चर्मकारों को अपना कारोबार शुरू करने के लिए रकम का इंतजाम करने मुख्यमंत्री अनुदान योजना अलग से लागू होगी। इसमें दस हजार से लेकर पांच लाख तक बैंक से फायनेंस कराए जाएंगे। इसमें आधी रकम बतौर अनुदान दी जाएगी।

* चर्मकारों के यहां बच्चा होने पर माता को डे़़ढ माह और पिता को 15 दिन की मजदूरी दी जाएगी। साथ ही एक हजार रुपए पौष्टिक लड्डू के लिए मिलेंगे।

* उज्जैन में संत रविदास का भव्य स्मारक तैयार किया जाएगा।

* चर्म शिल्पी के स्कूल जाने वाले बच्चों को एक साथ दो-दो छात्रवृत्ति दी जाएगी। इसके लिए नियमों में जहां जरूरत होगी संशोधन किया जाएगा। एक छात्रवृत्ति तो अनुसूचित जाति वर्ग के छात्र होने की और दूसरी मजदूर परिवार से होने के नाते मिलेगी।

* चर्म शिल्पियों की बच्चियों की शादी यदि सम्मेलन से नहीं हो पाती है तो भी उन्हें कन्यादान योजना के तहत 15 हजार रुपए दिए जाएंगे।

* पांच से ज्यादा छात्र शहर या कस्बे में किसी एक फ्लेट या कमरे को किराए पर लेकर रहते हैं तो उसका किराया सरकार अदा करेगी।