18 February 2019



प्रमुख समाचार
आत्मीय सामाजिक रिश्तों का आधार बना ‘पुल’
30-04-2013

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणाओं पर तेजी से अमल जारी हैं। इसका उदाहरण सिवनी जिले में वैनगंगा नदी पर केवलारी-पलारी-भीमगढ़-छपारा मार्ग पर हाल में बना पुल है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वर्ष 2008 में स्थानीय लोगों की माँग पर इस पुल को बनाने की घोषणा की थी। अब लगभग चार वर्ष बाद यह पुल बनकर यातायात के लिये तैयार हो गया है। पुल के बनने से आसपास के 20 गाँव बारहमासी आत्मीय सामाजिक रिश्तों से जुड़ गये हैं।

मुख्यमंत्री की घोषणा और उस पर अमल के इन चार साल के पहले आसपास के लोगों को न केवल आवागमन में परेशानी थी, बल्कि उनके आपसी संबंध भी प्रभावित हो रहे थे। अब पाइल फाउण्डेशन बनने से आवाजाही आसान हो गई है और इन बीस गाँव के लोगों के रिश्तों के पुल भी मजबूत हो गये हैं।

पुल के बनने से क्षेत्रीय लोगों के सामाजिक और आर्थिक जीवन में भी बड़ा बदलाव आया है। ग्रामीण व्यापार को बढ़ावा मिला है। सभी 20 गाँव के लोग अब बिक्री के लिये अपनी फसल, कुटीर उत्पाद, ताजे फल, सब्जियाँ आदि सीधे तहसील मुख्यालय ले जाते हैं। इससे वे अपने उत्पादों के सुरक्षित भण्डारण से भी बच गये हैं और उन्हें दाम भी वाज़िब मिलने लगे हैं। इससे उनके परिवार की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हो रही है। यही नहीं आमदनी बढ़ने के साथ-साथ गाँव में रोजगार भी ज्यादा मिलने लगा है। बच्चों की पढ़ाई-लिखाई सुगम हो गई है। गाँव के बच्चे कॉलेज की पढ़ाई के लिये तहसील तक सुगमता से जाने लगे हैं। गाँव वाले रीति-रिवाज के साथ रिश्तेदारी में एक-दूसरे के गाँव सुगमता से आने-जाने लगे हैं। इस तरह लोग सुख-दुःख में एक-दूसरे से आत्मीय रूप से जुड़ गये हैं।

बीस गाँव की सुख-समृद्धि और शिक्षा सुविधाओं तक सुगम पहुँच के साथ गाँव वालों के आपसी रिश्तों को जोड़ने वाला यह पुल 4 करोड़ 60 लाख में बना है। डेढ़ सौ मीटर लम्बाई और लगभग साढ़े आठ मीटर चौड़ाई के इस पुल को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वयं 30 मार्च को लोकार्पित किया।