21 February 2019



प्रमुख समाचार
वन विभाग में पदोन्नति के दो नियम
06-05-2013
वन विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को पदोन्नत करने के दो नियम लागू हैं। एक नियम के तहत मैदान में पदस्थ कर्मचारियों को समय पर पदोन्नति दी जा रही है वहीं दूसरा नियम लगाकर वन मुख्यालय में पदस्थ चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों की सात साल से पदोन्नति अटका रखी है। यह सब वन मुख्यालय में प्रशासन-2 के अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक जव्वाद हसन की जिद के चलते हो रहा है। उन्होंने जीएडी के नियमों के ऊपर तत्काली प्रधान मुख्य वन संरक्षक के सर्कूलर को मान्यता दे रखी है। एपीसीसीएफ हसन की जिद के कारण वन मुख्यालय में पदस्थ चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों में आक्रोश व्याप्त है। मामले की गंभीरता को देखते हुए वन मुख्यालय ने इस मामले को उलझाने के लिए उक्त नियमों में संशोधन करने के लिए राज्य सरकार को प्रकरण भेज दिया है। वहीं राज्य सरकार भी इस मामले में दो बार वन मुख्यालय को जीएडी के नियमों के अनुसार पदोन्नति करने को कह चुकी है, लेकिन एपीसीसीएफ हसन का कहना है कि नियमों में संशोधन होने के बाद ही पदोन्नति की जाएगी। सबसे बड़ी बात यह है कि जीएडी के नियमों के आधार पर वन विभाग के 16 वन वृत्त कार्यालयों में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को पदोन्नति दी जा रही है।