18 February 2019



प्रमुख समाचार
सभी जिले 31 मई तक ई.वी.एम. का भौतिक सत्यापन करें
17-05-2013

मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जयदीप गोविंद ने सभी जिलों को आगामी 31 मई तक ई.वी.एम. का भौतिक सत्यापन कर उसकी प्रारंभिक जाँच करवाने के निर्देश दिये हैं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने आज अपने कार्यालय से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये जिलों के साथ ई.वी.एम., निर्वाचन संचालन एक्शन प्लान और ट्रेनिंग संबंधी तैयारियों की समीक्षा की।

श्री जयदीप गोविंद ने निर्वाचन कार्य के लिये जिलों में तैनात नोडल अधिकारियों से कहा कि निर्धारित तिथि तक ई.वी.एम. का शत-प्रतिशत भौतिक सत्यापन और जाँच का कार्य पूरा हो जाना चाहिये। इसके बाद एक जून से जिलों द्वारा ई.वी.एम. की प्रथम-स्तरीय जाँच का कार्य शुरू किया जायेगा। उन्होंने ऐसे जिलों की जानकारी भी ली, जहाँ ई.वी.एम. की जाँच के लिये अभी तक इंजीनियर नहीं पहुँचे हैं। श्री गोविंद ने निर्वाचन अधिकारियों से कहा कि जिन निर्वाचन क्षेत्रों के संबंध में न्यायालय में दायर पिटीशन में ई.वी.एम. मुद्दा नहीं है, वहाँ उसे रिलीज करवाने के लिये कार्यवाही की जाये।

श्री जयदीप गोविंद ने जिलों से कहा कि जिन कर्मचारियों की ड्यूटी चुनाव कार्य में लगेगी, उनके नाम मतदाता-सूची में अवश्य शामिल हों। परिवहन संबंधी व्यवस्था से जुड़े कर्मचारियों के नाम भी मतदाता-सूची में शामिल करवाने की जिम्मेदारी आरटीओ पूरी करें। निर्वाचन से जुड़े कर्मचारियों के प्रशिक्षण के लिये जिलों द्वारा की गई तैयारियों की भी उन्होंने जानकारी ली तथा निर्धारित कैलेण्डर के अनुसार कार्यक्रम तैयार करने को कहा। उन्होंने सभी जिलों को निर्वाचन संबंधी एक्शन प्लान भेजने के निर्देश दिये। जिलों को मतदान सामग्री की तैयारियाँ भी पूर्ण करने को कहा गया। उन्होंने कहा कि जिले मतदाता-सूची को दुरुस्त करें, क्योंकि निर्वाचन आयोग लगातार उसकी समीक्षा कर रहा है। उन्होंने जिलों को ऐपिक रेशो के अंतर को समाप्त करने के लिये भी कहा।

वीडियो कान्फ्रेंसिंग में जिलों द्वारा बताया गया कि मध्यप्रदेश में विधानसभा निर्वाचन के लिये महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश से ई.वी.एम. आयेंगी, इसीलिये उन्हें प्राप्त करने तथा सुरक्षित भण्डारण की पुख्ता व्यवस्था की जाये। जिलों को डाक मत-पत्र की तैयारियाँ भी करने को कहा गया। जिलों द्वारा बताया गया कि जुलाई में होने वाले प्रशिक्षण के लिये नोडल अधिकारी तथा प्रशिक्षण-स्थल का चयन कर लिया गया है। एक-एक विधानसभा क्षेत्र के लिये तीन-तीन मास्टर ट्रेनर रखे गये हैं। निर्वाचन कार्य संबंधी स्टेशनरी के मुद्रण के लिये माँग-पत्र शासकीय मुद्रणालय को भेजे जा चुके हैं। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. बंसल, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुश्री रूही खान तथा जिलों के नोडल अधिकारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी, निर्वाचन पर्यवेक्षक आदि उपस्थित थे।