19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
लंदन: 'नहीं जानती थी कि हत्यारे मेरे पास ही मौजूद हैं'
23-05-2013

लंदन। लंदन की सड़क पर एक जवान की नृशंस हत्या के बाद हत्यारे किसी और व्यक्ति पर हमला कर उसको मौत के घाट न उतार दें, ऐसा सोचकर मैंने एक हत्यारे को बातों में उलझाया और उससे इस हत्या का मकसद पूछा। यह कहना है घटना स्थल से एक बस में गुजर रही 48 वर्षीय महिला इंग्रिड का। जिस वक्त हत्यारा इस घटना को अंजाम देने के बाद जवान की सिर कटी लाश से दूर खड़ा था, उसी दौरान इंग्रिड बस में वहां से गुजर रही थी। उसको लगा कि किसी हादसे में जवान घायल हो गया है, ऐसा सोचकर वह बस से तुरंत उतर गई। उसका मकसद जवान को फ‌र्स्टएड मुहैया करवाने का था। लेकिन जब इंग्रिड ने उस जवान की नब्ज टटोली तो वह मर चुका था। इंग्रिडा के मुताबिक जिस वक्त वह जवान के पास उसको चैक कर रही थी, तब वह नहीं जानती थी कि उससे कुछ कदमों की दूरी पर ही हत्यारा खड़ा है। इंग्रिडा ने बताया कि वहां दो हत्यारे मौजूद थे। इनमें से एक के पास में एक छोटी कुल्हाड़ी, चाकू और एक रिवाल्वर थी। दूसरा हत्यारा भी उससे कुछ कदमों के फासले पर मौजूद था। जब इंग्रिडा का ध्यान हत्यारों की तरफ गया तो उसके मन में यही डर था कि कहीं वह किसी और पर हमला न कर दें। यही सोचकर उसने हमलावर का सामना करने का मन बनाया था। उसने हत्यारों से जवान की नृशंस हत्या की वजह जाननी चाही तो उनका कहना था कि इस जवान ने अफगानिस्तान में कई मुस्लिमों को मौत के घाट उतारा है और वह इससे तंग आ चुका है। इसलिए ही उसने इस जवान को मौत के घाट उतारा है। यह इस महिला की बहादुरी ही कही जाएगी कि यह उनके सामने खड़ी थी। बाद में लंदन पुलिस ने दोनों को गोली मार कर घायल कर दिया। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरून ने इस हत्या को आतंकवादी घटना करार दिया है। इस घटना के बाद उन्हेांने अपने सहयोगियों के साथ एक आपात बैठक भी की।