15 February 2019



राष्ट्रीय
फणीश ने किया यौन शोषण, बनाया था प्रेग्नेंट
23-05-2013

नई दिल्ली। नास्डेक में सूचीबद्ध प्रमुख भारतीय आईटी कंपनी आई-गेट के प्रेसीडेंट व सीईओ फणीश मूर्ति पर जिस महिला का यौन शोषण करने का आरोप लगा है उसी महिला के वकील ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि अरसेली रोईज मूर्ति के बच्चे की मां बनने वाली थी। जैसे ही मूर्ति को इस बात का पता चला उन्होंने रोईज को बच्चा गिराने पर जोर दिया, लेकिन रोईज के साफ मना करने पर मूर्ति ने उसे कंपनी से बाहर निकालने की धमकी दी। रोईज मूर्ति की कंपनी में सुपरवाइजर थी। मूर्ति रोईज की पर्सनल और प्रोफेश्नल दोनों लाइफ पर ही अपना हक समझते थे। जब से रोईज ने कंपनी ज्वाइन की थी तबसे मूर्ति उसके पीछे पड़ा था, लेकिन मंगलवार को आरोप साबित होने के बाद मूर्ति ने अपनी सफाई में कहा था कि वे बस कुछ महीनों से ही रोईज को जानते हैं। जबकि वे दोनों काफी समय से ही एक साथ हैं। उस रिलीज में आगे लिखा है कि रोईज अपनी जिंदगी चलाने के लिए मूर्ति पर पूरी तरह से निर्भर हैं, इसलिए मूर्ति उसका यौन शोषण कर पाता है। जब रोईज ने अपने पर हो रहे अत्याचारों का विरोध करने की कोशिश की तो मूर्ति ने उसकी किसी भी जिम्मेदारी को उठाने से इन्कार कर दिया। इसी डर से रोईज अब तक सब कुछ सहती आई है। इधर, मूर्ति ने अपने पर लगे यौन शोषण के सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा, मुझे जबरदस्ती इस झूठे मामले में फंसाया जा रहा है। मेरी कोई गलती नहीं है। मैने कंपनी के किसी भी नियमों को नहीं तोड़ा है। मुझ पर लगे सभी आरोप झूठे हैं। गौरतलब है कि मूर्ति को यौन शोषण के आरोप में आई-गेट के सीईओ पद से बर्खास्त कर दिया गया है। इनकी जगह गेहार्ड वॉटजिंगर को तत्काल प्रभाव से अंतरिम प्रेसीडेंट व सीईओ नियुक्त किया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, फणीश मूर्ति पर लगाए गए आरोपों की जांच में कंपनी के निदेशक मंडल ने पाया गया कि उन्होंने कंपनी की पॉलिसी और अनुबंध का उल्लंघन किया है। दरअसल, यौन उत्पीड़न मामले में मूर्ति अपनी बेगुनाही साबित नहीं कर सके इसलिए उन पर कार्रवाई की गई। कंपनी के सह-संस्थापक व सह-अध्यक्ष सुनील बाधवानी ने कहा कि बोर्ड में मामले पर विस्तारपूर्वक चर्चा हुई। हम पिछले 10 वर्षो से आईटी उद्योग जगत में कंपनी को लीडर के रूप में स्थापित करने के लिए मूर्ति के योगदान की सराहना करते हैं। उन्होंने कड़ी मेहनत से आई-गेट को बेहतर बनाया और हम उनके प्रयास की सराहना करते हैं। हालांकि, मूर्ति ने आई-गेट पॉलिसी की अवहेलना की, इसलिए हमने उन्हें त्यागपत्र देने को कहा। गौरतलब है कि इंफोसिस की पूर्व कर्मचारी रेखा मैक्सीमोविच ने मूर्ति खिलाफ यौन शोषण का मामला दर्ज कराया था। इससे पहले, इंफोसिस में काम करने के दौरान भी मूर्ति पर यौन शोषण के आरोप लगे थे जिसके बाद उन्होंने खुद कंपनी छोड़ दी थी। मुझे यौन शोषण आरोप में झूठा फंसाया गया है साल 1996 में स्थापित इस कंपनी का ज्यादातर काम आउटसोर्सिग का है और इसका मुख्यालय अमेरिका के कैलिफोर्निया में है। इसमें लगभग 30 हजार कर्मचारी काम करते हैं और ज्यादातर काम बेंगलूर से संचालित होता है। 2011 में इसने 5500 करोड़ रुपये में एक और आईटी कंपनी पटनी कंप्यूटर्स का अधिग्रहण किया था। इसके भी सीईओ फणीश मूर्ति ही थे।