22 February 2019



राष्ट्रीय
सुभाष चंद्र बोस की अस्थियां भारत लाने के लिए याचिका दायर
23-05-2013

नई दिल्ली। देश की आजादी के लिए आजाद हिंद फौज बनाने वाले देशभक्त सुभाष चंद्र बोस की अस्थियां जर्मनी के एक म्यूजियम से वापस भारत लाने की मांग को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की गई है याचिकाकर्ता का कहना है कि भारत सरकार को निर्देश दिया जाए कि स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियां भारत लाने की कार्रवाई करे, ताकि बोस की अस्थियां हिंदू धर्म के अनुसार गंगा में प्रवाहित हों और महान स्वतंत्रता सेनानी की आत्मा को शांति मिले। उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी मुरुगेसन व न्यायमूर्ति जयंतनाथ की खंडपीठ ने एएसजी राजीव मेहरा को निर्देश दिया कि वह केंद्र सरकार से इस संबंध में निर्देश ले और अदालत को सूचित करें। अब इस मामले में 31 जुलाई को सुनवाई होगी। उच्च न्यायालय ने याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा कि यह हमारे लिए एक खबर है कि सुभाष चंद्र बोस का दाहसंस्कार जापान में हुआ और उसकी अस्थियां टोक्यो के यूजियम में रखी हुई हैं। इस मामले में सोशल वर्कर प्रशांत पालीवाल ने अपने वकील सुग्रीव दुबे के जरिए एक जनहित याचिका दायर की है। जिसमें मांग की गई है कि बोस की अस्थियां वापिस लाई जाए ताकि उनको गंगा नदी में प्रवाहित किया जा सके।