18 February 2019



प्रमुख समाचार
केन्द्र और राज्य मिलकर बनाये नक्सलवाद से लड़ने की रणनीति -मुख्यमंत्री श्री चौहान
26-05-2013

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि केन्द्र और राज्य को मिलकर नक्सलवाद की समस्या से निपटने की रणनीति बनाना चाहिये। उन्होंने कहा कि प्रजातांत्रिक व्यवस्था में हिंसा का कोई स्थान नहीं है। नक्सलाइट हमले की घटना को राजनीति के नजरिये से नहीं देखना चाहिये। केन्द्र और नक्सल प्रभावित राज्यों को मिलकर साझा रणनीति बनाना चाहिये। श्री चौहान ने छत्तीसगढ़ में हुई नृशंस घटना की कठोर शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि इससे पूरा देश स्तब्ध है। उन्होंने घटना पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनका मन पीड़ा से भरा है।

श्री चौहान ने कहा कि छत्तीसगढ़ के पूर्व मंत्री एवं आदिवासी समाज के नेता श्री महेन्द्र कर्मा ने नक्सलवाद के खिलाफ शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन चलाया था। श्री नंदकुमार पटेल मध्यप्रदेश से जुड़े नेता थे और व्यक्तिगत मित्र थे।

श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार स्थिति पर निरंतर नजर बनाये हुए हैं। सभी ऐहतियाती उपाय किये गये हैं। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों से व्यक्तिगत आग्रह किया है कि वे राजनीतिक यात्राओं, प्रदर्शन में सुरक्षा के मार्गदर्शी नियमों का पालन करने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि नक्सलवाद जैसी समस्या का स्थायी समाधान निकाला जाना चाहिये। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में निरंतर निगरानी रखने की आवश्यकता है।

मध्यप्रदेश में स्थिति की चर्चा करते हुए श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में लगातार निगरानी रखी जा रही है। छत्तीसगढ़ में हुई घटना के संबंध में आरोप-प्रत्यारोप लगाना उचित नहीं है। इस समस्या को गंभीरता से लेना चाहिये। राजनीति से ऊपर उठकर केन्द्र और राज्यों को साथ मिलकर नक्सलवाद के खिलाफ लड़ाई लड़नी चाहिये।