19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
धोखाधड़ी व चोरी में पकड़े गए भारतीय डाक्टर, इंजीनियर
06-06-2013

वाशिंगटन। अमेरिका में एक भारतीय मूल के डाक्टर धोखाधड़ी में और एक इंजीनियर चोरी के आरोप में पकड़े गए हैं। भारतीय मूल के ह्रदय रोग विशेषज्ञ राजाराम पाटिल ने ज्यादा फीस वसूलने के लिए मरीजों की बीमारी की गंभीरता को गलत ढंग से दर्ज करने के आरोप स्वीकार कर लिए हैं। वहीं भारतीय इंजीनियर केतन कुमार को गोपनीय कारोबारी दस्तावेज चुराने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। केंटुकी स्थित अस्पताल के पूर्व चिकित्सक 51 वर्षीय संदेश राजाराम पाटिल अमेरिका में तीसरे ऐसे ह्रदय रोग विशेषज्ञ हैं, जिन्हें जालसाजी करने के आरोप में मुकदमे का सामना करना पड़ा है। पाटिल और अमेरिकी अटार्नी कार्यालय के बीच हुए एक समझौते के तहत वह 30 से 37 महीने तक जेल में रहेंगे। हालांकि इस समझौते पर अदालत की मंजूरी अभी बाकी है। पाटिल को 27 अगस्त को सजा सुनाई जाएगी। भारतीय मूल के 36 वर्षीय केतन कुमार मनियार पर अपने नियोक्ता के गोपनीय कारोबारी दस्तावेजों को चुराने का आरोप है। संघीय जांच एजेंसी [एफबीआइ] द्वारा दाखिल आरोप पत्र के मुताबिक, मनियार वैश्विक चिकित्सकीय प्रौद्योगिकी कंपनी बैक्टन डिकिंसन एंड कार्पोरेशन [बीडी] में बतौर स्टाफ इंजीनियर काम करता था। वह सीरिंज और पेन इंजेक्टर्स का निर्माण करने वाले समूह का सदस्य था। मनियार की पहुंच इन्हीं उत्पादों से जुड़ी गोपनीय कारोबारी जानकारियों तक थी। इनमें से कुछ उत्पाद तो व्यवसायिक इस्तेमाल के लिए बाजार में भी नहीं उतारे गए थे। न्यायिक विभाग ने बताया कि मनियार को न्यूजर्सी स्थित एक होटल से गिरफ्तार किया गया। वह गुप्त दस्तावेजों के साथ भारत जाने की योजना बना रहा था। मनियार ने गोपनीय कारोबारी जानकारी वाली करीब आठ हजार फाइलें डाउनलोड कर ली थीं और मई में इस्तीफा दे दिया था। आरोप साबित होने पर उसे दस साल की कैद और दो लाख 50 हजार डॉलर [करीब एक करोड़ 42 लाख रुपये] का जुर्माना हो सकता है।