21 February 2019



प्रादेशिक
प्रणब ने भी शिवराज की तारीफों के पुल बांधे
07-06-2013

भोपाल। वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज के बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तारीफों के पुल बांधे हैं। गुरुवार को अटल विहारी वाजपेई हिंदी विश्वविद्यालय की आधारशिला रखने के मौके पर उन्होंने इसका पूरा श्रेय शिवराज को दिया। कहा कि वह काफी ऊर्जावान मुख्यमंत्री हैं। राष्ट्रपति मुखर्जी ने कहा कि 13वीं शताब्दी तक भारत उच्च शिक्षा के मामले में विश्व में नंबर एक था, लेकिन बाद में उसकी गुणवत्ता में जो गिरावट आई है, वह सभी सरकारों और विश्वविद्यालयों के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि भारत के महज सात फीसद छात्र ही हायर सेकंडरी पास करने के बाद उच्च शिक्षा में दाखिला लेते हैं, जबकि अमेरिका के 33 फीसद छात्र उच्च शिक्षा में प्रवेश लेते हैं। पिछले दिनों एक एजेंसी की ओर से की गई विश्व की सभी यूनिवर्सिटीज की रेटिंग में भी भारत की यूनिवर्सिटीज की हकीकत सामने आई थी। इस रेटिंग में विश्व की टॉप 200 यूनिवर्सिटीज में भारत की एक भी यूनिवर्सिटी को स्थान नहीं मिला। यूनिवर्सिटी प्रशासन को भी प्रयास करने चाहिए कि छात्र ज्यादा से ज्यादा रिसर्च करें। भाषण के आखिर में राष्ट्रपति ने अपनी खराब हिंदी के लिए लोगों से माफी भी मांगी। हालांकि मुख्यमंत्री चौहान ने उनकी हिंदी को अच्छा बताया।